समर्थक

बस अब बहुत हो गया

जय श्री राम
भारतीय संस्कृति की रक्षा करने वाले सभी हिन्दू धर्मावलम्बियों का सामुदायिक मंच बनाते हुए हमें अत्यंत प्रशन्नता का अनुभव हो रहा है. इस ब्लाग  का मकसद  पूरे विश्व में होने वाले हिन्दुओ पर अत्याचार की खबरे प्रकाशित करना है. इस ब्लॉग का मालिक कोई नहीं नहीं होगा. इस मंच से जुड़ने वाले सभी लोग बराबर जिम्मेदारी निभाएंगे. जो भी ब्लागर सच्चे  हिन्दू हैं वे चाहे विश्व के किसी कोने में रहते हैं इस मंच के लेखक बन सकते हैं. मानवता का विनाश करने इस्लाम के अनुयायियों को तमाचा मारने के लिए  मुस्लिमों के कुकृत्य की ख़बरें चाहे वे विश्व के किसी कोने में हो रही हो इस ब्लॉग पर प्रकाशित करें. साथ ही इसका मकसद हिन्दुओ को एकजुट करना भी है, आप जहाँ भी रहते हो, वहा अख़बार पढ़े और मुसलमानों द्वारा किये जा रहे कुकृत्य इस ब्लॉग पर प्रकाशित करें, साथ ही यह भी ध्यान दे बहुत सी ऐसी खबरे होती है जिन्हें समाचार पत्र प्रकाशित नहीं करते. लिहाजा आप लोंगो को ध्यान रखना होगा अपने आस-पास होने वाली घटनाओ पर, जहा पर भी मुस्लमान अधिक संख्या में रहते हैं. वहा उन्होंने हिन्दुओ का जीना दूभर कर दिए हैं. तो आप सभी हिन्दू भाइयों का कर्तव्य बनता है की सच्चाई सबके सामने लायें. 
आईये सभी मिलकर इस्लाम का सच सामने लायें.....
जय श्री राम
इस हल्ला बोल शामिल होने के लिए अपनी ई-मेल भेंजे......... 
hindukiawaz@mail.com

16 टिप्‍पणियां:

हरीश सिंह ने कहा…

मेरी समझ में यह नहीं आता की ऐसे ब्लॉग की शुरुवात करके आप करना क्या चाहते हैं. एक गलत मकसद के साथ ब्लोगिंग सफल नहीं होती, धार्मिक विवाद खड़ा करने वालो का हस्र क्या होता है यह आप भी देख लेंगे, हमें नहीं लगता कोई हिन्दू आपका समर्थन करेगा. यदि चंद लोंगो को आपने जुटा भी लिया तो कौन सा तीर मार लेंगे. और परदे में छुपकर यह कैसी कायरता.
भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

हल्ला बोल ने कहा…

बुल्ले मियां यहाँ तुम जैसे लोंगो की जरुरत नहीं है, तुम्हारा कोई अपना यदि मुसलमानों के बीच रहता तब तुम्हे समझ में आता, तुम्हारा कोई कश्मीर में रहता तब समझ में आता. अभी भी वक़्त है सुधर जाओ नहीं तो पछताने का मौका भी नहीं मिलेगा.
हल्ला बोल

हल्ला बोल ने कहा…

और हमें तुम्हारे जैसे गद्दार हिन्दुओ की जरुरत नहीं.

गंगाधर ने कहा…

हरीश जी हमें नहीं लगता की इस ब्लॉग में कुछ गलत है. यहाँ पर हिन्दुओ के साथ होने वाले अन्याय पर समाचार ही देना है फिर क्या परेशानी है. ऐसी घटनाएँ आपके यहाँ भी होती होंगी. अपने ब्लॉग पर आप सच कहने की बात कहते है तो यहाँ भी सच लिखिए दिक्कत क्या है. हमें इस ब्लॉग से जुड़ने में कोई आपत्ति नहीं है. मेरा ई मेल है...... satybolnapaphai@gmail.com

अहसास की परतें - समीक्षा ने कहा…

mail bounced back,

Kindly add my id gurughantalanwarjamal@gmail.com

आशुतोष ने कहा…

add me
ashu7oct@gmail.com,as writer..i want to contribute in possitive manner ..thnks for the forum..
Ashutosh

Jai shree ram

Sujeet Singh ने कहा…

हरीश सिंह एक पत्रकार है अगर ऐसा नहीं करेंगे तो उनका दुकान नहीं चलेगा, हिन्दुओ के रूप में छुपे भेदिये है ये सब |

हल्ला बोल ने कहा…

समीक्षा जी, आशुतोष जी, सुजीत जी आप सभी का स्वागत है. सुजीत जी अपनी मेल-आईडी भेंजे तथा अपने क्षेत्र की खबरे दें.
एक बात आप लोग ध्यान रखें, कोशिश यह रहे की हम अपनी बात सही ढंग से रखें, हरीश जी शुरू में हमने भी आपके साथ गलत व्यव्हार किया, मैं थोड़ी देर पहले आपके ब्लॉग की कई पोस्ट पढ़ी, सच लिखते हैं तो संकोच कैसा. आखिर आप भी तो हिन्दू हैं. कुछ तो आपका भी फ़र्ज़ है.

बेनामी ने कहा…

बुल्ले मियां और गंगाधर दोनो से सावधान रहें!!

इन दोनों के लेखन में वही शैली है। समझ गये न?

हरीश सिंह ने कहा…

भाई हल्ला बोल जी आप किसी को अपमानित करके किसी भी मंसूबे में कामयाब नहीं हो सकते. बिना प्रमाण के आप किसी को गद्दार नहीं कह सकते. हालाँकि आपने यह शब्द नहीं कहा. पर शुरुवात में आपकी भाषा भी अशोभनीय थी. जब आपने नियम और शर्ते बनायीं तो हमें लगा की यह सच्चे रामभक्तो और समर्पित हिन्दुओ का संगठन है. आपने नियम में यह भी लिखा है की कोई व्यक्ति अमर्यादित भाषा का प्रयोग नहीं करेगा. हिन्दू धर्म का ठेका आपके पास नहीं है. पर जो लोग बेनामी बनकर हमें और गंगाधर जी के ऊपर आरोप लगा रहे हैं क्या आप बता सकते हैं की वे हिन्दू है या कोई और. क्यों भड़का रहे हैं लोंगो को. कल कोई मुसलमान आपसे पूछे की क्या भगवान राम का आदर्श यही है तो क्या जवाब होगा आपके पास, आपने मेरे पास आमंत्रण भेजा है, पर आप हमें संतुष्ट करे यदि इसी तरह राम की मर्यादा की धज्जिया यहाँ उड़ाई जाएगी तो कितने हिन्दू आपके साथ जुड़ पाएंगे. हो सके तो बेनामी टिप्पणी बंद करें.

हरीश सिंह ने कहा…

भाई सुजीत जी आपने हमारे ऊपर जो आरोप लगाये है क्या आप प्रमाणित कर सकते हैं. आप बता सकते हैं की आपने कैसी हिंदुत्व की शिक्षा पाई है. हम तो यहाँ सदस्य बनने को तैयार हैं आप वह भी नहीं. फिर भी मुझपर आरोप लगा रहे हैं. दुकान आप चलाते हैं, हम नहीं. पहले अपना संस्कार देंखे जनाब क्या यही शिक्षा मिली है आपको.
--

हरीश सिंह ने कहा…

हल्ला बोल जी, हो सके तो बेनामी टिप्पणियों को अवश्य हटा दे, यह कैसा आदर्श है. क्या भगवान राम ने यही सिखाया है की दूसरे के साथ अपशब्दों का प्रयोग करें. यह टिप्पणिया यदि किसी हिन्दू की है तो वह अपने पिता की संतान नहीं हो सकता बाकी वह खुद समझ सकता है. या फिर कोई मुसलमान जो अशांति चाहता है. वह आप के नियमो की अनदेखी कर लोंगो को भड़का रहा है. ताकि लोग इस मंच पर न आ सके. कोई भी स्वाभिमानी हिन्दू यहाँ गाली सुनने नहीं आएगा,

हल्ला बोल ने कहा…

अब बेनामी कमेन्ट कोई नहीं कर पायेगा. हरीश जी आपके साथ जो अपशब्द प्रयोग किये गए उसके लिए हम शर्मिंदा हैं. बेनामी टिपण्णी हटा दी गयी है. अब बेनामी टिपण्णी कोई नहीं कर पायेगा. हिन्दू भाई एकजुट रहे इस लिए आवश्यक है, जय श्री राम.

आशुतोष ने कहा…

मुल्ला हरीश खान

Lies Destroyer ने कहा…

@मुल्ला हरीश खान !!

आशुतोष ज़ी

अभी भी पूरा सच नहीं है। शोध की आवश्यकता है।:)

वे कसीदे याद है न? नूर मोहम्मद ???

Sachin ने कहा…

agrawals.group2374@gmail.com mujhe bhi add keejiye plz