समर्थक

अल्लाह के बन्दे सुन ले....

जी हाँ जरा देखें पाक अल्लाह के कुछ नापाक बन्दे हिन्दुस्थान में वोट कैसे मांगते हैं..


मगर आशुतोष मुह खोलेगा तो भारतीय ब्लॉग लेखक मंच के संस्थापक कहतें है की आप को कोई सुधार नहीं सकता...
जरा जाएँ हरीश जी इनको सुधरने का प्रयास करें..हम तो सांप्रदायिक ही अच्छे हैं...
अब एक तस्वीर और.....

क्या सारे हिंदुस्थानी,
हिजड़ों की तरह यही बोले की....
""कितनी खुबसूरत ये तस्वीर है,
ये कश्मीर है, ये कश्मीर है"" (भारत का एकमात्र मुश्लिम बहुल राज्य)
मैं कुछ कहूँगा, इन लोगों के बारे में तो सेकुलर कुत्ते भोकने लगेंगे..क्युकी अफजल और कसब के बाप इन्हें हड्डियाँ जो डालते हैं..

बाकि निर्णय आप पर बंधुओं..

33 टिप्‍पणियां:

Kunal Verma ने कहा…

ये कुत्ते हैँ।भौँकना तो इनका पेशा है दोस्त।उखाड फेको ऐसे सेकुलर को जो ऐसी नापाक हरकत करता है।

Mithilesh dubey ने कहा…

जय श्री राम

हरीश सिंह ने कहा…

मैंने कब कहा आशुतोष जी की यह बात सही है, मैंने पहले ही कहा था की इस ब्लॉग के नियम सही है. कब गलत कहा. आज यही मुसलमान पूरे इस्लाम को बदनाम कर रहे, ऐसे मुसलमन राष्ट्रद्रोही है ऐसे लोंगो को सरेआम बीच सड़क पर जूते से पीट कर मार देना चाहिए. राष्ट्रद्रोही और इंसानियत की हत्या करने वाले मुसलमानों को मैं कत्तई पसंद नहीं करता. और जो लोग इनका समर्थन करते हैं. ऐसे सभो लोंगो को मैं गद्दार समझता हूँ चाहे वे हिन्दू हो या मुसलमान,
आपने देखा यह भारत को औरंग की जमी बता रहा है और चाँद सितारा लहराने की बात कर रहा है. और वह किसके टिकट पर चुनाव लड़ रहा है. देश पर हुकूमत करने वाली कांग्रेस पार्टी के...... जो ऐसे लोंगो को बढ़ावा दे वे सभी गुनाहगार हैं. चाहे वे हिन्दू हो चाहे मुसलमान,, उसके लिए वे मतदाता भी दोषी हैं जो ऐसे पार्टी को वोट करते हैं जो इंसानियत की हत्या की बात करने वाले को बढ़ावा दे रहा है. जिन कुत्तो को सरेआम फंसी पर लटका देना चाहिए उसे चुनाव लडवाया जा रहा है. जो देश के मान-सम्मान और शान तिरंगे झंडो को जला रहा है उसे गोली से उड़ा देना चाहिए. चाहे वह किसी भी कौम का हो.. इस्लाम के नाम यह गंदगी खुद इस्लाम को बदनाम कर रही है.
मैं सभी मुसलमान भाइयों से अपील करना चाहूँगा. हमें यह बताएं........ क्या उनका इस्लाम ऐसा कहता है, यदि हां तो इस्लाम अच्छा कैसे. ...... ?
यह विवादित मसला नहीं बल्कि मानवता के लिए अति आवश्यक चर्चा का विषय है. यदि यही इस्लाम है तो इससे बुरा और कोई धर्म हो ही नहीं सकता....

हरीश सिंह ने कहा…

आपकी पोस्ट और अपना कमेन्ट मैं अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर रहा हूँ. अभी आपका आमंत्रण नहीं मिला, नहीं तो आज एक पोस्ट लिखने का मूड था. आप डंके की चोट पर भी आयें.

Lies Destroyer ने कहा…

हरीश जनाब,

जब पोस्ट एक तरफा साम्प्रदायिकता उजागर कर रही है तो आप बार बार यह वाक्य क्यों रट रहे है…

" चाहे वे हिन्दू हो चाहे मुसलमान,,"

अब यहां अनावश्यक हिन्दुओं को सम्मलित करने का क्या प्रयोजन?

और हाँ भेदभाव बार बार यद न दिलाओ,हम भेदभाव से पूरी तरह लड चुके, और अब हिन्दुओं में कोई आपसी भेदभाव है ही नहीं। और छिट-पुट कहाँ नहीं होता? सगे भाई भाई में भी प्रकट हो जाता है।
@ यदि यही इस्लाम है तो इससे बुरा और कोई धर्म हो ही नहीं सकता....

यदि? यदि से क्या मतलब है आपका? किताबों की बात छोडो, कोई पढकर सद्व्यवहार नहीं करता। यही देखो कि इस्लाम का फोलोअर क्या कर रहा है। यही इस्लाम का अन्तिम सत्य है।

आशुतोष जी,

वे मुख्यधारा में आना ही नहीं चाहते इसलिये अब तो उनका पराया प्यार उजागर होना ही चाहिए। आप सही दिशा में इंगित कर रहे है।
जाग्रति प्रेरक पोस्ट्।

कौशलेन्द्र ने कहा…

@ यही देखो कि इस्लाम का फोलोअर क्या कर रहा है। यही इस्लाम का अन्तिम सत्य है।

आशुतोष जी ! यह बात सही है कि फालोअर्स के कृत्य ही किसी धर्म का चित्र पेश करते हैं.....प्रदर्शित किया गया चित्र यदि भारत की अस्मिता ..संस्कृति ...विरासत ...और सनातन परम्पराओं के विरुद्ध है तो वह इस देश के लिए गद्दारों और दुश्मनों की फौज तैयार करने का काम कर रहा है. बिहारियों से दुश्मनों सा व्यवहार करने वाले शिव सेना के लोगों को महाराष्ट्र का यह मुल्ला नेता नज़र नहीं आयेगा .....उनकी आँखें केवल हिन्दुओं को ही देख पाती हैं......महाराष्ट्र की जनता को नमन ...जो बड़ी खामोशी से अपने परमहंस होने का प्रमाण दे रही है.

हरीश सिंह ने कहा…

Lies Destroyer साहब क्यों सच से मुह मोड़ रहे है, सीधे तौर पर देंखे तो यह पोस्ट एकतरफा साम्प्रदायिकता नहीं बल्कि धर्म के नाम पर क्रूरता भी दिखा रही है. पर ऐसे लोंगो को संरक्षण कौन दे रहा है. क्या उसमे हिन्दू दोषी नहीं है. ऐसे देश के गद्दार को कांग्रेस ने टिकट क्यों दिया चुनाव लड़ने के लिए.. कश्मीर में जिस तरह तिरंगा जलाया जा रहा है वैसा ही कारनामा आप और जगह बताईये जहा हिन्दुओ ने किया है. जो मुसलमान खुद को देशभक्त बताते है उन्होंने तिरंगा जलाने वाले को सरेआम क़त्ल क्यों नहीं किया. देश में हर जगह संविधान लागू है पर कश्मीर में अलग क्यों. क्या इसके लिए हिन्दू दोषी नहीं है.. आखिर सत्ता की लालच में राजनीती के भूखे भेडिये कथित हिन्दू ही है जो इन घटनाओ से मुह मोड़ लेते हैं. मेरी नजर में दोषी सिर्फ वह नहीं जो इतने घटिया कार्य करे बल्कि दोषी वह भी है जो ऐसी घटनाओ को नजर अंदाज करे, साथ ही बढ़ावा भी दे. चाहे वह हिन्दू हो चाहे मुसलमान. चाहे हम खुद हो, हम अपनी जिम्मेदारियों से नहीं बच सकते.
जरा इसे भी पढ़े. ....
मुस्लिम ब्लोगरों से : क्या यही इस्लाम है...?

poonam singh ने कहा…

सरेआम गोली से उड़ा दो ऐसे राष्ट्रद्रोहियों को जो तिरंगा जला रहे है. और चुनाव लड़ने वाला कह रहा है.... मेरे कारनामो को आप अच्छी तरह जानते हैं" इसका मतलब ही यह अपराधी है और किसी गंदे कारनामे की याद दिला रहा है.

किलर झपाटा ने कहा…

हल्ला बोल जी,
आप मेरे यहाँ आये खुशी हुई, मगर निम्नलिखित लिख आये तो हँसी आई :-
(कुछ और नया सोचिये जनाब, क्यों इन लोंगो का प्रचार कर रहे हैं.
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
इनका अपराध सिर्फ इतना था की ये हिन्दू थे)

मैं इनका प्रचार नहीं कर रहा, अचार डाल रहा हूँ और वो भी सड़ा हुआ। इन्हीम को खिलाने के लिये। अण्डर्स्टुड।
नया तो आप भी कुछ नहीं कर रहे हैं। लाखों साल पुराना राग ही तो आलाप रहे हैं। वो हिन्दू की हँसी उड़ायें आप मुसलमानों की। और दोनों भूल रहे हैं कि दोनों ही ईश्वर की ही हँसी उड़ा रहे हैं।
खैर चलिये आप कहते हैं तो आपके साथ मैं भी चलता हूँ, वाहियात कंटक मोचन हेतु। आपके यहाँ बुल्ले मुसलमान याने हरीश सिंह जी को देखकर उन्हें गुदगुदी लगाने को मन करने लगा है। चलता हूँ यार वर्जिश करनी है।
जय फ़लाना

किलर झपाटा ने कहा…

आप चाहें तो मुझे भी एड करलें हल्ला बोल के लेखक में। जरा मजा लेंगे अपन लोग इन लोगों का। हा हा।

गंगाधर ने कहा…

कहा है अल्लाह के बन्दे, सच को अल्लाह के बन्दे नहीं सुनेंगे आशुतोष जी, वे तो अपने गुनाह भी अल्लाह के नाम पर करते हैं. जो इस्लाम सिखा रहा है वही न करेंगे. अल्लाह के बन्दों को यदि सुनाई ही देता तो पाकिस्तान, अफगानिस्तान इराक के हालत ऐसे नहीं होते .. कश्मीर में अधिक संख्या में है तो वहा कर रहे हैं. वहा अत्याचार कर रहे है. अब पूरे देश में करना चाहते हैं. सच बात पर कोई नहीं बोलेगा.. किसी को शिवलिंग में कमी दिखती है तो कोई ...... क्या कहे जाने दीजिये. बहुत चिंतन शील पोस्ट के लिए बधाई.
हरीश सिंह ने सही कहा है.. इसके लिए वे हिन्दू भी दोषी है जो धर्मनिरपेक्षता के नाम पर ऐसे गद्दारों को बढ़ावा देते हैं.

किलर झपाटा ने कहा…

आपके ब्लॉग पर फ़ोलो‍अर्स के ऊपर लगी इस पट्टिका:-
(यदि हिन्दू धर्म के उपासक, प्रभु राम के सच्चे भक्त और भारत माता के सच्चे सपूत हैं तभी फालो करें.)
के लिये एक बात कहूँ ?

रामजी ने जब अपने फ़ालोअर्स के लिये किसी किस्म की शर्त नहीं रखी तो आप क्यों रख रहे हो ?

हल्ला यदि बोलना है तो खुल्ला बोलो वरना याद रखो, हल्ला सिर्फ़ एक गल्गले (शोर) में बदल कर रह जायेगा।

खुल्ले हल्ले में मैं भी आपके साथ हूँ और जग भी आपके साथ होगा।
शुभकामनाओं सहित।

abhishek1502 ने कहा…

आज सुबह जैसे ही अखबार पढ़ा खून खौल उठा मेरा . मेरठ में २०० से ज्यादा हिन्दुओ की दुकानों में आग लगा दी गयी , देर रात तक आगजनी और लूटपाट जारी थी और स्तिथि बेकाबू थी .
ये तो भारत में ही हो सकता है जहा कुछ स्वयंभू सेकुलर कुत्तो की शह पर अल्पसंख्यक बहुसंख्यक पर अत्याचार करे . पिछले मेरठ के दंगो में गायब हुई हिन्दू लडकियों का आज तक पता नही चला . और वो दंगा मायावती सरकार के एक मंत्री की शह पर और भड़क उठा था . चाहे माया हो या मुलायम ये सब तुष्टिकरण कर के हम हिन्दुओ के साथ घोर अत्याचार कर रहे है

abhishek1502 ने कहा…

यदि हल्ला बोल में मुझे सहयोग करने का अवसर मिलेगा तो मैं जरुर करूँगा क्यों की इस मंच की आवाज देश के हर कोने तक जरुर जानी चाहिए

हल्ला बोल ने कहा…

अभिषेक जी, आपको आमंत्रण भेजा गया है कृपया उसे स्वीकार कर इस घटना की पूरी पोस्ट प्रकाशित करें,. हमें ऐसी घटनाओ पर निगाह रखनी है.. धन्यवाद

हल्ला बोल ने कहा…

किलर झपाटा जी, हमें हल्ला भी बोलना है और हम यह भी नहीं चाहते की कोई हिन्दुओ पर यह इलज़ाम लगाये की मुसलमानों और तुम्हारे में क्या फर्क है. भगवान राम और कृष्ण के आदर्शो का पालन भी हमें करना है. दुष्टों का वध करना तो उन्होंने भी सिखाया है पर आदर्श बनकर. हिन्दू धर्म पर कोई अंगुली उठाये, हमारे धर्मशास्त्रो, अवतारों, ऋषियों,मुनियों पर अंगुली उठाये तो हम बर्दास्त भी नहीं करेंगे. हम चाहते है हैं जो भटके हुए हिन्दू धर्मनिरपेक्षता की चादर ओढ़कर कायर बने हुए हैं उन्हें एक मौका दे धर्म से जुड़ने का और यह काम हम गली देकर नहीं कर सकते.

किलर झपाटा ने कहा…

तो मैं कौन किसी को गाली देता हूँ भैये ? आप तो चुटकी लेने लगे। गालियाँ तो लोग मुझे और मेरी पोस्टों पर दूसरों को देते हैं और मैने भी सोच रखा है कि कुछ गन्दी मन्शा के बेनामियों के मन में जितना घिनापन है, लोग देखें तो जरा। इसीलिये किसी टिप्पणी को मिटाता नहीं। क्यों मिटाऊँ जब मैनें दी नहीं तो ? हिन्दू के रूप में हल्ला तो राणा साँगा से लेकर शिवाजी तक और न जाने कितने कितने लोगों ने बोला। हुआ कुछ भी नहीं।
जरा एक बार सच्चे इंसान और सिर्फ़ इंसान के रूप में हल्ला बोल कर तो देखिये, सम्पूर्ण क्रांति हो जायेगी। स्वर्ग से धरती पर चमन उतरते देर नहीं लगेगी।

हल्ला बोल ने कहा…

झपाटा जी आप झपाटा मारते रहिये, मैं चुटकी नहीं ले रहा हूँ. मैंने आपको नहीं कहा है की आप गली देते हैं. मैं उन सभी को कहना चाहते है जो अपना विरोध गाली देकर करते हैं. हिंदी भाषा में शब्दों की कमी नहीं है, बिना गाली दिए भी हम ऐसे शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जो गाली से भी खतनाक होंगे, जो राष्ट्रवादी मुसलमान कहे जाते हैं वे आये और यह कहकर पीछा न छुडाएं की यहाँ गाली मिलेगी, इस मंच पर उन्हें भरपूर जवाब दिया जायेगा. उनके हर सवालो का जवाब मिलेगा. हम हिन्दू हैं जो बर्दास्त करना भी जनता है और धर्म पर आक्रमण होने पर शिव की तरह तांडव कर सकता है और श्री कृष्ण की तरह सुदर्शन चक्र भी उठा सकता है. हिन्दू गीता का उपदेश देते हैं तो संहार करना भी जानते हैं. ब्रह्माश्त्र और गांडीव अल्लाह ने नहीं बनाये है.

Lies Destroyer ने कहा…

हरीश जनाब,

हम सच्चाई से मुंह नहीं मोड रहे, आप समझने की कोशीश किजिये।

हिन्दु स्वभाव से ही सौहार्दशाली है। और उसे बार बार सरल सौम्य रहने के लिये कहा जाता है। वह भी है कि अक्सर शान्त ही रहता है। और सहनशील बनता है। फ़िर सेक्युलर आकर उस सहनशीलता को कायरता कह कर चले जाते है।

फ़िर आप जैसे लोग आकर उस सहनशीलता को अपराध बताते है। आप आसानी से कह देते है 'जुर्म सहना भी अपराध है'। सहनशीलो को अपराधी बताने के पिछे आपका उद्देश्य होता है असली अपराधी से ध्यान हटाना।

फ़िर आप दिखावे के लिये 'फांसी चढाने' 'गोली मारने' को उकसा कर कानून की नजर में भी अपराधी सिद्ध करना चाहते है।

कॉग्रेस ने क्या किया क्या करती है,वाम कई क्या विचारधारा है या भाजपा के क्या उद्देश्य है। हम हिन्दुओं को कोई मतलब नहीं, ये लोग तो किसी भी तरह कोई भी जीत लेंगे। हमें मतलब है अपने गुण बरकरार रखकर, संस्कृति को सुरक्षित कर कैसे स्वाभिमान से जिएं। बस।

डबल गेम न खेलिये, कभी सौहार्द को महान गुण और कभी शान्ति के लिये चुप रहने को अपराध न कहिए।

Lies Destroyer ने कहा…

@ इसके लिए वे हिन्दू भी दोषी है जो……………… मेरी नजर में दोषी सिर्फ वह नहीं जो इतने घटिया कार्य करे बल्कि दोषी वह भी है जो ऐसी घटनाओ को नजर अंदाज करे,

जनाब हरीश साहब,

आपकी नजर में तो घटिया काम करने वाले दोषी है ही नहीं बल्कि वे बिचारे दोषी है जो शान्ति चाहते है, चुप रहकर आतंक का घूंट पीकर भी बात बढाना नहीं चाहते, स्वाभिमान की चोट पर भी संयम से काम लेते है और छोटे से जीवन को सुख से बसर कर लेना चाहते है।

अब आप और गंगाधर साहब बता दिजिए………

संयम से काम लेना है………या क्रूर बन जाना है।
सहनशील बनना है…………… या प्रतिशोध मगन।
सौहार्द लाना है…………… या घात प्रतिघात।
स्वाभिमान भी तजना है………या गर्वीले बन घुमना है।

इस तरह के गुणवान कायर बनें या सम्वेदनाहीन निष्ठुर वीर

बता दिजिएगा।

एम सिंह ने कहा…

हालात दिनों दिन खराब होते जा रहे हैं. इसकी जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ सरकार की है. कादिर मौलाना जैसे कुत्तों को आम जनता कैसे मार भगा सकती है, जबकि उसे देश की सियासत की पनाह हासिल है. मैंने इसी विषय पर एक पोस्ट लिखी थी, जिसका लिंक यहां दे रहा हूं.
‌‌‌‌लाल चौक पर पा​किस्तानी झंडा फहरा सकता है पर ​तिरंगा नहीं

ROHIT ने कहा…

अगर ये खबरे हमारी मीडिया न्यूज चैनल वाले दिखाये तो कुम्भकर्णी नीँद मे सो रहा हिन्दु एक दिन मे जाग जाये.
लेकिन देश के गददारो के टुकड़े पे पलने वाला ये मीडिया ऐसी खबरे कभी नही दिखाता है.
बल्कि वो तो ऐसी पकाऊ खबरे दिखाता है कि जो हिन्दु जाग भी रहा हो वो भी सो जाये.
और आज इसी का नतीजा है कि आज हमलोग अपने ही देश मे अपने प्यारे तिरंगा को जलते देख रहे है.
जिन सपोलो को पैदा होते ही मार देना चाहिये था उसे इस कांग्रेस ने न केवल 60 सालो से पाल पोस कर बड़ा किया बल्कि इतनी ताकत भी दे दी कि आज वो सपोले साँप बनकर जहर उगल रहे है और काट रहे है.

कांग्रेस को वोट देने वाले हिन्दुओ !
आँख खोल कर देख लो कि इस कांग्रेस ने हिँदुस्तान को किस गटर मे घुसेड़ दिया है.

और अगर तुम लोग अभी भी न जागे और इस ईसाई सरकार कांग्रेस को उखाड़ के न फेका तो याद रखना इंडिया तो रहेगा पर हिँदु नही रहेगा.
और आने वाली पीढ़िया तुम पर थूकेँगी.

ROHIT ने कहा…

हल्ला बोल जी
इस ब्लाग को हमारीवाणी और ब्लाग परिवार जैसे एग्रीगेटर पर रजिस्टर कीजिये ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो तक ये ब्लाग पहुचे.

Man ने कहा…

जी बढ़िया अभीव्यक्ती अपने कर्तव्य पथ पर लगे रहिये ,...वन्देमातरम

सुज्ञ ने कहा…

Lies Destroyer साहब,

आपने हमारे मन की बात कह दी!!

काटे न लेकिन फुफकारना तो पडेग़ा ही।

सौहार्द अगर सहनशीलता बनकर जुर्म में खपे उसे त्याग देना ही अच्छा!!

सुज्ञ: भगवान रिश्वत लेते है?

सुज्ञ ने कहा…

@वो हिन्दू की हँसी उड़ायें आप मुसलमानों की। और दोनों भूल रहे हैं कि दोनों ही ईश्वर की ही हँसी उड़ा रहे हैं।

किलर झपाटा साहब,

यह कैसे? अनुचित व्यवहार करने वालो को कुछ कहना ईश्वर की हँसी कैसे? जरा और स्पष्ठ करें।

आशुतोष ने कहा…

आप सब का धन्यवाद् सार्थक बहस के लिए..
मगर अब समय इससे आगे जाने का आ गया है..

Dr. shyam gupta ने कहा…

यह तो सही है कि सही समय है हल्ला बोलने का...

--मुझे लगता है हरीश जी का मतलब यह है कि वे हिन्दू भी जो स्वयं को सेक्यूलर बता कर इन घटनाओं को नज़र अन्दाज़ कर रहे है..वे भी दोषी हैं ---सभी को जानना चाहिये कि ..अपने यहां गद्दार की गद्दारी के बिना कोई भी दुश्मन कुछ नहीं कर सकता ...अतः जो हिन्दू चाहे सरकार हो, बुद्धिजीवी, कोई भी जो एसी घटनाओं पर संग्यान लेकर उचित कठोर दन्डात्मक/
निन्दात्मक कार्यवाही नहीं करते वे भी दोषी हैं....

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

वोट के लिये यह किसी को दिखाई नहीं देता..

किलर झपाटा ने कहा…

एकदम करेक्ट हल्ला बोल जी। नाऊ आय एम विथ यू।

किलर झपाटा ने कहा…

आपकी ये बात दिल को छू गई के-
"हिंदी भाषा में शब्दों की कमी नहीं है, बिना गाली दिए भी हम ऐसे शब्दों का प्रयोग कर सकते हैं, जो गाली से भी खतनाक होंगे"

सटीक कहा।

हल्ला बोल ने कहा…

चलिए देर ही सही आपको मेरी बात समझ में तो आ गयी, भाई पहलवान हैं देर से समझते हैं. ही ही ही ही ही

chooti baat ने कहा…

कांग्रेस को उखाड़ के न फेका तो याद रखना इंडिया तो रहेगा पर हिँदु नही रहेगा.
और आने वाली पीढ़िया तुम पर थूकेँगी.
rohit ji ne sahi kaha