समर्थक

वास्तविक स्वच्छ सन्देश



जय  श्री  कृष्ण
वास्तविक स्वच्छ सन्देश आप देख सकते है. एक मुस्लिम माता अपने बच्चे को स्कूल के फेंसी ड्रेस कार्यकर्म में भगवान कृष्ण की वेशभूसा में ले जाते हुए अच्छा हुआ किसी कट्टर पंथी ने नहीं देखा नहीं तो बेचारी माता को किशी न किशी प्रकार से प्रताड़ित किया जाता.

7 टिप्‍पणियां:

कौशलेन्द्र ने कहा…

इसे कहते हैं धार्मिक सहिष्णुता ......इन बहन जी को इनकी उदार धार्मिक भावनाओं के लिए सादर प्रणाम

Arshad Ali ने कहा…

achchhi post...ek dharm manwta ka hai aur usse bada koi dharm nahi...

सुज्ञ ने कहा…

सद्भावनाएं स्वतः हृदय में स्थान पाती है। शुभ विचारशील माँ को प्रणाम!!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

yahi hai sachcha swachchh sandesh...

Mithilesh dubey ने कहा…

फोटो देखकर मजा आ गया. यही है भारतीय संस्कृति

हल्ला बोल ने कहा…

धर्म बदल जाने से माँ शब्द की परिभाषा नहीं बदल जाती. हर माँ चाहती है, बड़ा होकर उसके बच्चे में संस्कार हो, वह भारतीय संस्कृति में सराबोर रहे, न की उस संस्कृति में जहाँ धर्म के नाम पर हाथ में बंदूके पकड़ा दी जाती है. बहुत सुन्दर प्रस्तुति कौशलेन्द्र जी, अच्छी बातो को भी हमें उदहारण स्वरूप दूसरो के समक्ष रखना होगा. हम हिन्दू हैं. यदि बुराईयों पर नजर रखेंगे तो इसका मतलब यह नहीं की अच्छाईयों को नज़रंदाज़ कर देंगे.

किलर झपाटा ने कहा…

जरा गहराई से देखें जी,
यही तो है रसखान का (काली कमली वाला) प्यारा सा कन्हैया।