समर्थक

    यूँ ही नहीं कहा गया हिमालय को देवभूमि ........ कैलाश पर्वत की दिव्यता  का दर्शन कीजिये आप भी. 
      हिमालय यात्रा के अनंतर गोमुख के मार्ग में दूर एक पर्वत की चोटी पर मुझे भी एक स्थान पर विशाल हिमनद के रूप में ॐ  के दर्शन हुए थे ...दिव्य था वह दर्शन ....अभिभूत था मैं. हिमालय ने सदा ही मुझे आकर्षित किया है. अगला जन्म हिमालय के ही किसी गाँव में लेना चाहूंगा .......


Himalayas


North Face of Kailash Parvat (Bhutan) - by 
Adien Gaswort (Italy)
HimalayasThe Great Mountains of Himalayas (India) - by Tlivu (South Africa)


Himalayas
View of Pindari Glacier (India) - By Gaurav CHAUHAN (India)
Himalayas
Mesmerizing View of Himalayas (India - by Aadyn (Australia)

6 टिप्‍पणियां:

आशुतोष की कलम ने कहा…

क्या सुन्दर ॐ की आकृति दिखाई दे रही है..
मगर क्या ये प्रमाणिक है??क्यकी कई लोग प्रश्न उठा सकते हैं की ये ग्राफिक्स का कमाल है??
अगर इसका कोई लिंक हो तो दे दें कौशलेन्द्र जी..

कौशलेन्द्र ने कहा…

http://www.travel-himalayas.com/himalayas-pictures/ pictures of the Himalayas at picturesofplaces.com - himalayas ...
Himalayas pictures including Mount Everest, Annapurna Treks, Mera Peak, Gokyo
Lake, Yamdrok Tso, Ama Dablam, Langtang Region, mountains, valleys, and more!
http://www.picturesofplaces.com/Asia/nepal/himalayas.html

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

ये ऊं असली है, आशुतोष जी, एक बार जाकर देख आओ अभी सीजन है,

बेनामी ने कहा…

कौन कहेगा आशु जी, यह ग्राफिक्स है. जो दृश्य देखने पर आँखों को सुकून मिले, दिल को शांति मिले. पूरे शरीर में एक सुखद अहसास हो, वही तो है वह जगह जहाँ इश्वर का निवास होता है. उस इश्वर का निवास जिस इश्वर को मानने वाले हिन्दू कहे जाते हैं. किसी भी धार्मिक स्थल पर चले जाईये. धार्मिक स्थल का मतलब वह स्थान जहाँ से हिन्दुओ की श्रद्धा जुडी हुयी हो वह पर जो शांति का अनुभव होता है वह शांति दुसरे धर्मावलम्बियों के स्थल पर नहीं मिलता, बल्कि वहा पर एक भय मन में उत्पन्न होता है. बहुत अच्छा लगा कौशलेन्द्र जी. ॐ शांति ..................
आज मेरे यहाँ नेट में कुछ प्रॉब्लम है. लिहाजा बेनामी से कमेन्ट कर रहा हूँ. हरीश सिंह

Er. Diwas Dinesh Gaur ने कहा…

कौशलेन्द्र जी...सच में हिमालय एक देवभूमि है...महान धाम है हिमालय...

आशुतोष की कलम ने कहा…

हरीश भाई मैंने इस पर प्रश्न नहीं उठाया है..मेरा कहना इतना ही था की सेकुलर श्वान बहुतायत हैं हिन्दुओं में..कोई और बाद में वही भो भों करने लगते..
अब कौशलेन्द्र जी ने लिंक दे दिया तो प्रमाणिकता भी सिद्ध हो गयी