समर्थक

बाबा ने बाँध लिया है सर पे कफ़न ..........

उत्तर प्रदेश में scholarship घोटाला चल रहा है कई साल से ..........मैं काफी समय से उस पर काम कर रहा हूँ .....सरकार छात्रों को वजीफा देती है कि वो पढ़ सकें ..........350 रु पांचवीं तक के बच्चों को .......440 रु आठवीं तक और 720 रु 9th और 10th वालों को ......पिछले तीन साल में 7200 करोड़ रु बांटे हैं सरकार ने .......इसमें लगभग 5000 करोड़ का गबन हुआ है ........हमारे जिले गाजीपुर में एक विकास खंड के तीन गावों में एक आदमी ने 26 फर्जी स्कूल खोल रखे है जो सिर्फ कागजों पर चलते हैं ......उसमे एक एक स्कूल में 9th और 10th क्लास में 1500 बच्चे दर्ज हैं .....जी हाँ एक स्कूल में 1500 ..........सरकार ने उस स्कूल को 15 लाख रु दे दिए हैं ....ऐसे उस अकेले आदमी ने उन 26 स्कूलों के मार्फ़त पिछले 4 सालों में 3 लारोड़ से ज्यादा लूटा है ......सरकार के 7 विभाग इसमें शामिल हैं और एक बैंक और उस गाँव का प्रधान ........ऐसे हमारे जिले में हज़ारों स्कूल हैं और सैकड़ों लोग ( माफिया ) शामिल हैं .... इस लूट में .....एक जिला विद्यालय निरीक्षक है जो 6 साल से उस जिले में जमा हुआ है ........उसके कार्यकाल में 200 करोड़ से ज्यादा का गबन है सोच लीजिये उसका हिस्सा कितना होगा .........मैंने RTI के तहत applications डाली हैं ...अब तक कोई जवाब नहीं आया है ........डीएम भी चुप बैठा है ........मामला गाजीपुर का है और मैं यहाँ हरिद्वार और जालंधर से बैठ के लड़ रहा हूँ .........अप्रैल में घर गया था ....एक मित्र आये थे ....समझाने लगे ....क्या रखा है .......कुछ ले दे के बैठ जाओ ........ये लोग बहुत गंदे लोग हैं ....बहुत powerful भी हैं .........इनका कुछ नहीं बिगड़ेगा .........लगे आंकड़े गिनाने ...एक अमित जेठवा था ...गुजरात में ......तुम्हारी तरह RTI एक्टिविस्ट .....मरवा दिया ....अब तक कुल 12 मारे जा चुके हैं ........कौन सा मरणोपरांत परम वीर चक्र मिल गया उन्हें .........और फिर इसमें तो खुद मुख्तार अंसारी involved है ......मुख्तार अंसारी का नाम सुन के हड्डियों में खून जम जाता है गाजीपुर में .......पूर्वांचल में 200 रु में लड़के murder करते हैं ......मेरे जैसे अदना से आदमी की सुपारी का रेट दस हज़ार रु है .......ये सब बातें मैं खूब जानता हूँ ........
अब ये किसी फिल्म का सीन होता तो हीरो एक लंबा सा देशभक्ति पूर्ण डायलोग मारता ....उस आदमी को 2 झापड़ मारता और फिर हेरोइन के साथ पेड़ के इर्द गिर्द नाचने गाने लगता ........पर वास्तविकता ये है भाइयों की उस दिन मेरी pant खराब हो गयी थी .......सांस अटक गयी थी सीने में .......हलक सूख गया था ....और तीन दिन लगे थे मुझे उस सदमे से उबरने में .........और फिर वो फाइल उठाने की हिम्मत मैं यहाँ पतंजलि में के ही जुटा पाया था .......अब ये हिम्मत कितने दिन कायम रहेगी मैं कह नहीं सकता ...परिवार है मेरा .......अगर कोई सचमुच मेरे बच्चे के पास के खड़ा भी हो गया तो मैं मूत दूंगा .......और एक बात और है ....कि इस पूरे केस में 10 -20 लाख बनाया भी जा सकता है ....और फिर यहाँ से आदर्शवाद के ब्लॉग लिखना बदस्तूर जारी रहेगा .........मेरे सामने ये कुछ options हैं
1) लड़ाई जारी रखूँ .......चाहे शहीद हो जाऊं .....इस बात की परवाह किये बगैर ......कि इसका कोई फल मेरी शहादत के बाद निकलेगा भी या नहीं ....कि वो सारा पैसा उन लोगों से वसूल होगा ...और वो जेल जायेंगे और ये कि आगे ये लूट बंद हो जायेगी .......
2) कुछ दिन ये नाटक जारी रख के फिर समझौता कर लूं ......इसमें मेरे जैसा टुच्चा आदमी भी 20-25 लाख तो बना ही लेगा ....और ये केस अगर वीर संघवी या बरखा दत्त के पास हो तो वो तो 2-400 करोड़ बना लेंगे ........सीधे मायावती से बात कर के .......
) इन पंगों में पडूं ....चुप चाप खा कमा लूँ ...किसी कोने में ...अपने बच्चे पाल लूं .......और शाम को आराम से राग दरबारी सुनूं .......भीम सेन जोशी का ......

प्यारे दोस्तों ...माफ़ी चाहता हूँ ...अगर मैंने आपका दिल तोडा हो ये घटिया लेख लिख के .....ये तथा कथित कायरता पूर्ण बाते कर के ......आपके फ़िल्मी आदर्शवाद को ठेस पहंचा के .....पर सच्चाई बहुत कडवी होती है मेरे दोस्त ....यथार्थ का धरातल बहुत कठोर होता है .........
अब ज़रा कहानी का पात्र बदल देता हूँ .......बाबा रामदेव 12 घंटे पुलिस की हिरासत में रहे .......12 घंटे में पुलिस .......या ये तंत्र ....बिना कुछ समझाए आपको क्या कुछ समझा सकता है ............क्या आपको इसका अंदाजा है ........जो आदमी एक देश की सरकार से लड़ रहा हो ....और उसकी लड़ाई से इतने बड़े नेताओं ....अधिकारियों .......पूँजी पतियों ...अपराधियों ......मल्टी नेशनल कम्पनियों ...दलालों ......पुलिस अफसरों की आज तक की सारी काली कमाई जब्त हो जाने और आगे का सारा जीवन जेल में बीतने का खतरा पैदा हो जा रहा हो .....उसे ये लोग अपने रास्ते से हटाने के लिए क्या कुछ कर सकते हैं ...बताने की ज़रुरत नहीं है ........पेप्सी और coke जैसी कम्पनियां .........जो चाहें तो पूरी की पूरी सरकार को खरीद सकती हैं ........हसन अली जैसे माफिया .........लालू और शरद पवार जैसे नेता .......और ये इतने बड़े बड़े international banks ...इनसे पंगा ले रहा है बाबा .........आम तौर पर लोगों को आतंकवादियों से खतरा होता है ....पर बाबा के तो हज़ार दुश्मन हैं .......गिनवाऊँ ??? आतंकवादी ......ये सत्ता के दलाल ,ये टैक्स चोर , ये नेता , ये MNCs , ये multi national banks , खुद अपनी सरकार ........
बाबा के सामने भी 3 options हैं ..........पतंजलि में बैठ के पैर पुजवाए ............चुप चाप हज़ार दो हज़ार करोड़ या शायद 1-2 लाख करोड़ ले के बैठ जाए और मौज करे .........या फिर भिड़ जाए सर पे कफ़न बाँध के ......अबे तेरे आगे पीछे रोने वाला कौन है .......क्यों डर रहा है .........पर आज के बयान पर ज़रा ध्यान दीजियेगा .......बाबा ने कहा है कि अपनी सेना बनाऊंगा ....और उन्हें शाश्त्र और शस्त्र ....दोनों की ट्रेनिंग दूंगा ........एक डरे हुए बाबा ने ...एक बार तो जिसकी धोती खराब हो गयी थी ....जिसका अपनी सरकार से भरोसा उठ गया है .........उसने सर पे कफ़न बाँध लिया है .......ये अपनी सेना बना के उसे शस्त्र की ट्रेनिंग देने का बयान उसी डर ...हताशा और संकल्प की उपज है ..........
अब आप बताइए ...कहानी के इन दोनों पात्रों को क्या करना चाहिए .........कौन सा option चुनना चाहिए ..........पर ध्यान रहे सुझाव फ़िल्मी आदर्शवाद की उड़ान पर बैठ के नहीं ......वास्तविकता के ठोस धरातल पे बैठ के दीजियेगा .......मुझे आपके comments का इंतज़ार है ....

7 टिप्‍पणियां:

vivek ने कहा…

Samvedna Shunya ho gaya mera dimag to vastav me yadi mere samne yahi mudde aaye to main chup chap baithna hi pasand karoonga kyoki meri jaan mere liye nahi par mere baccho ke liye bahut kimti hai

veeru ने कहा…

भाई बाबा रामदेव डरे नही है
अगर डरते होते तो ये काम नही करते.
वो भोले भाले होने के कारण चालाक कांग्रेसी नेताओ के षडयंत्र का शिकार हुये है.
और जो भी कुछ हुआ है उससे बाबा के आन्दोलन को और ताकत मिलेगी.
और जिस दिन सत्ता बदलेगी कोई आश्चर्य नही होगा अगर गांधी परिवार को दौड़ा दौड़ा के लथेड़ा जायेगा.

vivek ने कहा…

और जिस दिन सत्ता बदलेगी कोई आश्चर्य नही होगा अगर गांधी परिवार को दौड़ा दौड़ा के लथेड़ा जायेगा.

Kash ye din jald se jald aaye

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

जनता कब जागेगी..

kavita ने कहा…

कह दो इन निकम्मों से कि बाबा रामदेव की परवाह करें ! नहीं तो जल्दी बोरिया-बिस्तर लेकर इटली की राह धरें ! अगर न चेते अब भी तो हम इनको सबक सिखा देंगे ! हिन्दुओं का खून है कैसा, हम दुनियाँ को दिखा देंगे !!

kapil ने कहा…

सब के सब चुपचाप खड़े हैं ये कैसी लाचारी हैं
तानाशाही लगता हैं के लोक तंत्र पर भारी हैं
झूट कपट वालों ने देखो सच्चाई को मारा हैं
काले अंगरेजों से फिर दिल्ली में गाँधी हारा हैं
योग गुरु बाबा को नेताओं ने कैसा रूप दिया
राजनीती ने मानो सत्याग्रह के मूह पर थूक दिया
बड़े इशारे पाकर के वर्दी ने ऐसा काम किया
दिल्ली की मिटटी को मासूमों के खूं से लाल किया
राम लीला मैदान में जलियाँ वाली आज कहानी हैं
ये सरकार तो भारत में डायर की आज निशानी हैं
राजभवन में देशद्रोहियों को जैसे इनाम मिला
संसद हमले के आरोपी को भी सम्मान मिला
राजभवन में बैठे नेता सारे आज संभल जाओ
इससे पहले हम बदलें तुम अपने आप बदल जाओ
ऐसा ना हो भगत सिंह कही फिर बंदूकें बो जाये
बदला लेने की खातिर जिंदा उधम सिंह हो जाये
दरबारों के परपंचो से धीरज मेरा डोल गया
सच की खातिर आज अयान मरने की भाषा बोल गया...........

किलर झपाटा ने कहा…

आप का नजरिया बिल्कुल ठीक है मगर यहाँ एक बात न भूलें कि बाबा को सियासत का एक फ़ीसदी भी अनुभव नहीं था। इसलिये वो एकदम प्रीमैच्योर अटैक कर गये। और उनकी यह हालत सदमें से हुई है।

सोच लो बाबा संयासी, कि एक गृहस्थ दुनिया में क्या क्या झेलता है। यह योगी पर भोगी का वार है। जरा तैयारी से उतरना अगले समर के लिये।

कपिल जी ने जो कवितानुमा टिप्पणी की है वो बेमिसाल है। वाह वाह।