समर्थक

अपने ही घर में बेगाने क्यों ?

दोस्तों कहने को तो हिंदुस्तान हिन्दू बाहुल्य देश है | यहाँ हिन्दुओं को को बहुसंख्यक कहा जाता है, पर वास्तव में अपने ही घर हिन्दू समुदाय लाचार और निरीह दीखता है| कुछ वोट के लालची नेता (कांग्रेसी) मुसलमानों का वोट पाने के लिए हिन्दुओं के मान सम्मान और संस्कृति का हर प्रकार से हनन कर रहे हैं|    ४ जून की रात बाबा रामदेव के साथ जो भी हुआ वह हिन्दू समुदाय के ऊपर कुठाराघात है| मैं पूछता हु आप सबसे की यदि बाबा रामदेव की जगह कोई मुस्लिम होता तब  भी क्या सरकार यही कदम उठाती ? कभी नहीं..... क्योंकि यह मुसलामानों के तलवे चाटने वाली सरकार है|  ये लोग सोचते हैं की हिन्दू जायेंगे कहाँ, वोट तो हमें देंगे ही चाहे कुछ भी करो| इनका मुख्य मसला है मुसलामानों को कैसे खुश किया जाए? अगर जल्दी ही हमारी आँखे नहीं खुली तो वह दिन दूर नहीं जब हिन्दुस्तान में पाकिस्तानी राज़ करेंगे| उग्रवादियों से तो हमें बाद में खतरा है, हमारे पहले दुश्मन है कांग्रेस के मुसलमान समर्थक नेता| मै आप सबसे आग्रह करता हु की इस सरकार का बहिष्कार कीजिये| 
यदि हमें हिंदुत्व एवं हिन्दुओं की अस्मिता को बचाना है तो कड़े कदम उठाने होंगे 

अब वक्त आ गया है जब सभी देश भक्त हिन्दू एक होकर देशद्रोही मुसलमानों और हिन्दुओं के दुश्मन कांग्रेस को सबक सिखाये.
अपनी संस्कृति का अपमान
अब नहीं सहेगा हिंदुस्तान 
भारत माता की जय

5 टिप्‍पणियां:

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

ये डरपोक कायरों का देश है, हिम्मत वाले तो कम ही है।

satpanthi ने कहा…

यह तो हमारा दुर्भाग्य था की हिंदु मुस्लिम के नाम पर देश का बटवारा हुआ. और हमारा पहला प्रधान मत्री भी मुस्लमान था, जिसके बाप ने दिल्ही से भागकर कश्मीर में हिंदू नाम रख कर पनाह ली. यानि चिट् भी पापियों की और पट भी पापियो की हमारा प्रधानमंत्री अचकन में गुलाब और कबूतर उड़ाते रह गए. और पापिस्तानी कश्मीर पर हमला कर गए पर हमाऋ सेना ने पूरा कश्मीर वापस ले लिया था पर कबूतर बाज ने वापस गडबड करदी. और आज भी इस वर्णसंकीर्ण परिवार की चाटने में सेकुलर स्वानो की लंबी कतार है.

किलर झपाटा ने कहा…

करेक्टम फ़रमातसि त्वम।

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

क्या बताया जाये...

drshyam ने कहा…

अपनी संस्कृति का अपमान
अब नहीं सहेगा हिंदुस्तान