समर्थक

समाचार-पत्र ...और ....सामाजिक सरोकार......डा श्याम गुप्त....

समाचार पत्रों में समाचारों का वर्गीकरण करके यदि देखा जाय तो अधिकाँश पृष्ठ फिल्म समाचार, नग्न तस्वीरें , विज्ञापन या खेल समाचारों से भरे होंगे , वास्तविक समाचार कितने होंगे .........
आप स्वयं देखिये...
.

समाचार-पत्रों का----- समाचार लेखा जोखा.......
- टाइम्स ऑफ इंडिया ---अंग्रेज़ी ( बेंगलूरू ) ---दि-२८ जून ११ .....कुल पृष्ठ = २६ ( ६ पृष्ठ -अतिरिक्त सहित )

---फ़िल्म समाचार.......१+६( अतिरिक्त भाग )
( --अर्धनग्न चित्रों सहित ) ... ७ पृष्ठ ... (२६.९ %)

-- -स्पोर्ट.समाचार.........३+१/४ पृष्ठ ... (१२.५ %) =..... कुल १८+१/२ पृष्ठ (७१ %)
---कामर्सियल एड्स ... ८ + १/४ पृष्ठ .... (३१.७ %)

------------सामान्य समाचार ............................... =.......कुल ७+१/२ पृष्ठ ( २९ % )

२- राजस्थान पत्रिका----हिन्दी ...दि. २५ जून, ११ ...कुल पृष्ठ १४+४ =१८( ४ पृष्ठ का रिज्यूमे सहित )..

-----कमर्शियल एड्स + जैन धर्म एड्स,
+ मदभरी बातें सहित .....२+३/४ पृष्ठ ...(१५.३ %)
-------फिल्म समाचार ....१+१/४ पृष्ठ ...(६.९ %) =....कुल ..९ पृष्ठ ( ५० %)
-------खेल समाचार ...............१ पृष्ठ ...(५.५ %)
-------रेज्यूमे... (शिक्षा आदि ) ४ पृष्ठ ...(२२. %)
----------- सामान्य -समाचार + नीति कथाएं सहित .........= .... कुल ...९ पृष्ठ (५० %)

1 टिप्पणी:

आशुतोष की कलम ने कहा…

समाचार पत्र हो या बौधिक रूप से गुलाम मीडिया सब की यही कहानी है..
देश बिक जाये केट रणबीर ही इनकी जुबानी है...