समर्थक

कब तक भारत के सीने पर, दुश्मन मूंग दलेंगे यार??

वन्दे मातरम बंधुओं,

कब तक भारत के सीने पर, दुश्मन मूंग दलेंगे यार,
कब तक वोटों की खातिर हम, अपनों को छलेंगे यार.......

जहरीले साँपों को अपने, हाथों दूध पिलायें कब तक,
26 /11 , लाल किला, आखिर हम भुलाएँ कब तक,
भगत सुभाष का लाल कहाते, हमको आये शर्म ना क्यूँ कर,
भय बिन प्रीत ना होत है, भूले आखिर मर्म हाँ क्यूँ कर,

कब तक दहशत की आग में, जीते हम जलेंगे यार,
कब तक दुश्मन की करनी पर, चुप चुप हाथ मलेंगे यार..........



कब तक दामाद सा पालेंगे, अजमल अफजल को आखिर,
देश पे अपने नजर गड़ाये हैं, लखवी और दाउद काफ़िर,
अहिंसक भी हिंसक हो सकते है, इनको ये समझाना होगा
अहिंसा की हिंसा खतरनाक है, इनको हमे बताना होगा,
एक के बदले में दस को, क्यूँ ना मार दिखाएँ यार,
हम क्यूँ नपुंसक हो गये हैं, जो ये वापिस आते हर बार,

जड़ों में इनकी जहर घोल दो, बबूल नही फलेंगे यार,
हम भारत के नौजवां, क्यूँ ना इनको मसलेंगे यार .........

4 टिप्‍पणियां:

rakesh gupta ने कहा…

शायद आतंकी भी ये बात अच्छी तरह से समझते हैं की हिन्दुस्तान की सरकार उनका कुछ नहीं बिगाड सकती....

blogtaknik ने कहा…

आतंकी भी ये बात अच्छी तरह से समझते हैं की हिन्दुस्तान की सरकार उन्हें दामाद बना कर रखती है. इस लिए तो ये साहस करते है.

आशुतोष की कलम ने कहा…

दिग्विजय श्वान ने ३ दिन पूर्व बोला था की क्यों नहीं कोई धमाका हो रहा है जब से प्रज्ञा ठाकुर पकड़ी गयी है..
अब लो हो गया धमाका शायद बाटला हॉउस में बिरयानी खा रहा है..
मुझें लगता है ये कांग्रेस प्रायोजित ब्लास्ट है...मीडिया को मिल गया मसाला १० दिन के लए और काला धन भ्रष्टाचार अन्ना का जन्लोकपाल सबसे ध्यान हट गया ..
अफजल और कसब को दामाद बना कर रखने वाली व्यवस्था में हम इससे ज्यादा क्या सोच सकते हैं..
ये जेहादी श्वान यही कह रहें हैं की हम तो फोड़ेंगे बम तुम्हारे हिजड़े शासको का समर्थन है..क्या कर लोगे???

blogtaknik ने कहा…

आज देश की खुफिया एजेंसियाँ स्वामी रामदेव व बालकृष्ण की जाँच में लगी हैं , देश के अंदर अतंकी जाल बुन रहे लोगों की जाँच कौन करेगा ? आए दिन बम ब्लास्ट ,बस यही अंजाम होना बाकी रह गया इस देश का। देश में खुले आम कसाब की जन्म की तारीख याद दिलाई जा रही है। कब मनाया जाएगा इन देशद्रोहियोँ का मृत्युदिवस क्या कभी नहीं ?