समर्थक

भ्रष्टाचार, हिंदू एवं हिन्दुस्तान का सबसे बरा दुश्मन.......! है कोई इलाज़......!


भ्रष्टाचार का इलाज

   

प्रिय ब्लोगी भाइयो,

मैंने पिछले कुछ दिन पहले एक निवेदन किया था कि कुछ बातों में कोई मतभेद नहीं है जैसे :
 भ्रस्ताचार है ,
सभी स्तरों पर है ,
सरकार इसे खत्म करने के प्रति उदासीन है
रामदेव , हजारे जैसे लोग कोशिश कर रहे हैं.
विपक्षी दलों में भी कोई सक्रियता नहीं है,
पिसने वाली आम जनता है ,
पता नहीं लोकपाल बिल बने न बने,
बने तो कैसा बने !

ऐसे में मैंने निवेदन किया था कि आम आदमी क्या इसे हटाने में कोई सार्थक  पहल कर सकता है  !

मुझे बहुत लोगों से फोन व अलग अलग लोगों से विभिन्न प्रतिक्रिया मिली , उनमे से जो मुझे सबसे अच्छी लगी , व ये है .

हर सरकारी दफ्तर के बाहर , उस नगर, कसबे , गाँव , शहर कि जो भी संस्था भ्रष्टाचार के खिलाफ है , वो अपना काउंटर लगाएं.  जगह मिले तो पक्के मकान में , नहीं तो खुले में ही कुर्सी मेज लगा कर.

उसमें. एक बरा बोर्ड लगा हो , जिसमें , जिनके खिलाफ शिकायत हो , उसका नाम , पद, और रिश्वत के पैसे कि रकम , इत्यादि लिखी हो ,

वह काउंटर , अपने यहाँ शिकायतों का रजिस्टर रखे, अपने आधार पर , आर .टी . आई . से सहायता ले, पुलिस कम्प्लेंट करें , उसे आफिस में कम्प्लेंट करें.

जहाँ सरक टूटी हो वहाँ , उस जगह के पार्षद, एम्. एल, ए .,  एम् . पी. , पार्टी का नाम लिख कर लगाएं.

ये छोटे मोटे कामों से भी बेईमानों को थोडा सा डर तो होगा.

एक मुख्य-सुझाव यह था कि एक एजेंसी हो जो  हरेक बरे पद पर के कर्मचारी की संपत्ति का ब्यौरा ले , और हर महीने सर्टिफिकेट इस्सू करे कि यह व्यक्ति ईमानदार है .

हर सरकारी पद पर नियुक्ति से पहले , उनसे , ईमान दारी की शपथ उस आफिस में सबके सामने खिलायी जाए , और नौकरी देने से पहले उसको लिख कर बता दिया जाय , कि उसे केवल तनखा में ही गुजारा करना होगा, यदि वह आपने को होशिअर समझता है तो , वाह नौकरी छोर कर व्यापार करे. मगर उस पद को व्यापार नहीं बना सकेगा.

सरकारी पद पर रिश्वत खाना , देश-द्रोह माना जायेगा .

यदि अभी भी आप कोई सुझाव दे सकते हों तो कृपया दीजिए, आपकी तरफ से आपका सुझाव ही भ्रष्टाचार के ताबूत में एक कील माना जायेगा, आपका सहयोग मन जायेगा, चाहे , आप अपने अपने ब्लॉग में सुझाव ले कर , इस ब्लॉग को दें.

बुद्धिजीवी का तो यही सहयोग माना जायेगा, क्योंकि वह सरक पर जा कर प्रदर्शन तो करेगा नहीं, क्योंकि वह तो बुद्धिजीवी है , कलम का , कम्पुटर का, उंगलिओं का खिलारी ही है .

विचार भी बहुत आवश्यक है , विचार ही नहीं होगा तो कार्य किस दिशा में होगा,

इस देश को मुसलमानों ने इतना नुक्सान नहीं पहुँचाया , जितना हिंदू भ्रष्टाचारियों  ने ..........!

हिंदुओं के खिलाफ इतने सरकारी कदम भी इस भ्रष्टाचार का एक अंग है ,

अमरनाथ, कैलाश  जाने वालों पर टैक्स और हज जाने वालों को सरकारी सहायता, ये भ्रष्टाचार नहीं तो क्या है .

जय हिंद

          

3 टिप्‍पणियां:

ROHIT ने कहा…

अगर कोई कानून नही बनता है
तो जनता को एक अपना बड़ा शिवसेना टाइप का संगठन बनाना चाहिये.
और जो रिश्वत ले या भ्रष्टाचार करे.
उसको अपमानित करना चाहिये.
सौ भ्रष्टाचारियो को भी अगर तबियत से अपमानित किया जाये.
तो कम से कम हजार भ्रष्टाचारी तो जरुर सुधर जायेँगे.

Abhishek ने कहा…

मुझे केवल एक उपाय समझ आता है जितने भ्रष्टाचारी है सबको गोली मार देनी चाहिए. भारत का कानून इतना लचीला है की अगर वो जिन्दा रहे तो कानून के लचीले पन का फायदा उठाकर भ्रष्टाचार करते ही रहेंगे. देश लेवल पर बाबा ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जो किया उसको कैसे कुचला गया वो तो आपने देखा ही होगा. किसी शहर,गाँव, कसबे में कोई संस्था अगर भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलेगी भी तो उस संस्था में जो भी होगा ये भ्रष्टाचारी उनके साथ क्या करेंगे कभी आपने सोचा है. जिन्होंने इतने व्यापक समर्थन के बाद बाबा को नहीं छोड़ा वो उन अनजान लोगो को भ्रष्टाचार के खिलाफ कुछ भी करने से नहीं रोकेंगे क्या ?

कौशलेन्द्र ने कहा…

भ्रष्टाचारियों को दंड देने के लिए कडा क़ानून बनाना होगा. चुनाव के समय हम खामोश रहते हैं ....क्यों नहीं अगले चुनाव के वक़्त हम उसे ही वोट देने का प्रचार करें जो उम्मीदवार सदन में पहुँच कर भ्रष्टाचारियों को कडा दंड देने और उनकी संपत्ति राष्ट्रीय संपत्ति घोषित किये जाने के लिए क़ानून बनवाने का वायदा करे. कमसे कम हमें शुरुआत तो करनी ही होगी. हमारे भ्रष्ट नुमाइन्दों को भी वापस बुलाने का ......उन्हें अपदस्थ करने का अधिकार वोटर को मिलना चाहिए ......हमें अपनी आवाज़ बुलंद करनी होगी और यह बताना होगा कि हमारे मुंह में भी जुबान है