समर्थक

राज हठ , लोकपाल बिल और अन्ना....ड़ा श्याम गुप्त....

....कर्म की बाती,ज्ञान का घृत हो,प्रीति के दीप जलाओ...

तीन प्रकार की हठ प्रसिद्ध हैं-----राज हठ , त्रिया हठ, हम्मीर हठ ..... कैकेयी , शूर्पणखा व सीता की त्रिया हठ व रावण की राज हठ --त्रेता के युद्ध का कारण बनी ; कंस, दुर्योधन की राज हठ व द्रौपदी की त्रिया हठ महाभारत का -----हम्मीर हठ मूलतया व्यक्तिगत हठ है जिसमें सत्य के आग्रह पर दृढ रहने में व्यक्ति स्वयं को भी न्योछावर करने को तैयार रहता है |
परन्तु यदि सोचा जाय कि यदि इन तीनों हठ में आपस में ही टकराव सहयोग हो तो क्या हो सकता है .... आज लोकपाल बिल के विषय पर ...केन्द्रीय सरकार की राज हठ धर्मिता सभी को ज्ञात होरही है जिसके समर्थन में 'सोनिया गांधी' की त्रिया हठ भी शामिल है .....अब इस सम्मिलित दो हठों के सम्मुख है ...बावा राम देव व अन्ना हजारे की हमीर हठ .....अब देखें क्या हश्र होता है ...हम्मीर हठ का....लोकपाल बिल का...लोकतंत्र का...भ्रष्टाचार का...भ्रष्टाचारियों का व बेचारी निरीह जनता का जो भ्रष्टाचार से मुक्त होने का सपना सजाये बैठी है.....

5 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

देखें कौन कौन सी हठ और बाकी हैं।
आपकी रचना आज तेताला पर भी है ज़रा इधर भी नज़र घुमाइये
http://tetalaa.blogspot.com/

drshyam ने कहा…

धन्यवाद,,,वन्दना जी.....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

देखते हैं क्या क्या होता है इस हठ के चलते

कौशलेन्द्र ने कहा…

फिलहाल, राज हठ और तिरिया हठ के अस्तित्व अपने अवसान की ओर प्रगति करते दृष्टिगोचर हो रहे हैं. संभवतः ये हठ इस सरकार की कब्र खोदने का काम करेंगे ..........

कौशलेन्द्र ने कहा…

आज की वाणी पर -
दिग्विजय सिंह को भाव कौन देता है ?