समर्थक

राष्ट्रद्रोहियों की पैरोकार ! सोनिया सरकार

नई दिल्ली में हिना ने बढाया अलगाववादियों का एजेंडा ! क्यों चुप रही भारत सरकार ?
'जंगे आजादी के समर्थन' पर आपत्ति क्यों नहीं की भारत के गृह मंत्रालय ने ?
श्री नगर में नजरबन्द अलगाववादी नेताओं को किस कानून के अंतर्गत वार्ता के लिए रिहा किया गया ?
और उन्हें सरकारी खर्चे पर दिल्ली लाया गया हिना रब्बानी का हुश्न दिखाने के लिए ?
क्या भारत का कोई मंत्री पाकिस्तान के सीमांत क्षेत्रों में सक्रिय पाकिस्तान विरोधी नेताओं से भेंट कर सकता है ?


हिना ने कश्मीर के अलगाववादी नेताओं से दिल्ली में मुलाकात किया ! अलगाववादी नेताओं से मुलाकात के तुरंत बाद अलगाववादी नेता अलीशाह गिलानी ने बयान जारी करके ऐलान कर दिया ''जब तक हिंदुस्तान की सरकार जम्मू-कश्मीर की आजादी की मांग स्वीकार नहीं करती हमारी जंग जारी रहेगी'' गिलानी ने भारत के विदेश मंत्री के साथ होने वाली बातचीत को भी बेमानी करार दे दिया ! यह वही गिलानी हैं, जिन्होंने गत वर्ष दिल्ली में ही आयोजित एक विचार गोष्ठी में ''हम क्या चाहते- आजादी'', ''गो इंडिया गो'' और ''पाकिस्तान जिंदाबाद'' के नारे लगवाये थे ! अब फिर दिल्ली में ही गिलानी ने भारतीय सेना, सरकार और कानून की जमकर धज्जी उड़ाई !

सवाल पैदा होता है कि पाकिस्तान की विदेश मंत्री तो वही करेंगी और कहेंगी जिसका लाभ पाकिस्तान-परस्त तत्वों को मिलेगा, परन्तु भारत सरकार अपने राष्ट्रहित की अनदेखी क्यों कर रही है ? कश्मीरी अलगाववादियों को दिल्ली में आकर पाकिस्तान सरकार (विदेश मंत्री) से मुलाकात करने और भारत के खिलाफ जहर उगलने की इजाजत किसने और क्यों दी ? हिना भारतीय प्रोटोकॉल को भंग करके सबसे पहले पाकिस्तानी दूतावास में कैसे पहुँच गयी ? अलगाववादियों की भारत विरोधी ''जंगे आजादी'' का समर्थन करने वाली विदेशी नेता का संज्ञान क्यों नहीं लिया गया ? श्रीनगर में नजरबन्द दोनों अलगाववादी नेताओं को किस कानून के अंतर्गत रिहा किया गया ?

क्या सरकार में बैठे सोनिया-मनमोहन समेत सभी मंत्री अब भी अपने आपको देश-भक्त साबित करने का अवसर प्राप्त करना चाहेंगे !
राष्ट्रद्रोहियों की पैरोकार ! सोनिया सरकार !! होश में आओ !!! गद्दी छोडो, इटली जाओ !!!!

2 टिप्‍पणियां:

vidhya ने कहा…

dekha jay

सुनील दत्त ने कहा…

कांग्रेस की स्थापना एक विदेशी ने विदेशियों के हित साधने के लिए की थी वो भला भारत की शुभचिन्तक कैसे हो सकती है?
ये तो हमार बैद्धिक गुलाम हिन्दूओं की मुर्खता है व आम लोगों की वेसमझी है कि वो कांग्रेस द्वारा लगातार देश से गद्दारी किए जाने के बाबजूद कांग्रेस के असली स्वारूप को नहीं पहचान पाए हैं।
लोगों को जागरूक करने वाले लेख के लिए आप बधाई के पात्र हैं।