समर्थक


वैसे प्रवीण जी सही कह रहे थे जब धर्म सॅकट मे पड जाऐ तो उसके लोगो का परम कर्तब्य है कि वे अपने धर्म की रक्षा मे अपना तन मन धन लगा दे फरवरी ०५ २००७ का पेपर पढा तो पता चला की अयोध्या के पवित्र राम मन्दिर जिसके लिऐ अनगिनत रामसेवक जला दिये गये उस मन्दिर के प्रसाद वितरण के लिये धन की ब्यवथा नही हो पा रही है और हैदराबाद के एक निजाम खान साहब ने वहा प्रसाद भिजवाया क्या २५ अरब हिन्दू मे से एक भी हिन्दू ऐसा नही जो वहा प्रसाद की ब्यवथा कर सके तो वही राजस्थान के सनातन सन्था के मासिक पत्रिका मे गुजरात के एक सन्त कहते है कि अगर २५ अरब हिन्दू मे से एक भी अपने मन्दिर की रखवाली नही कर सकता है तो हिन्दूओ को धिक्कार है ये हिन्दू आखिर किस लिये जी रहे है पिछ्ले १४ सालो से अयोध्या मे राम मन्दिर नही बन पा रहा है क्यो नही बन पा रहा है आखिर किसी हिन्दू ने ये सोचा शायद किसी ने यह जानने की कोशिश नही की आखिर हिन्दू कब जागेगा आखिर कब नीचे चित्र मे देखे कि कि प्रकार रामजन्मभूमि-आन्दोलन मे हिन्दूओ को जलाया गया

ein Bild
ein Bild
ein Bild
ein Bildक्या अब भी आप चुप है अगर नही तो आज ही हमारे सगॅठन के सदस्य बने अभी ई-मेल करे Uttrakhandi.ram@gmail.com पर मिले
धर्म व सन्क्रिति की रक्षा मे सर्मपित
soujanya se - उत्तराखण्डी शेर






कोई टिप्पणी नहीं: