समर्थक

मुसलमानों को 18 फीसद आरक्षण : क्या बाकी के धर्म धोका हैं ! नकली हैं !


मुसलमानों को 18 फीसद आरक्षण ! बाकी अल्पसंख्यक कहाँ जायेंगे ? कौन बताएगा ?

mus1.jpg    

मुसलमानों को 18 फीसद आरक्षण 


मायावती ने भी की मुसलमानों के आरक्षण की वकालत!


मुसलमानों को आरक्षण देंगे?


क्या बुराई है , जब वो अल्प संख्या में हैं तो जरुर दें . पर ये बाकी के अल्पसंख्यक क्या किसी और देश के हैं !

HINDUISM - about 82%
ISLAM - about 12%
CHRISTIANITY - about 2.5%
SIKHISM - about 2%
BUDDHISM - about 0.7%
JAINISM - about 0.5%
ZOROASTRIANISM - about 0.01%
JUDAISM - about 0.0005%

क्या बाकी के  धर्म धोका हैं ! नकली हैं ! 

आखिर क्या कारण हैं कि ये १२% , बाकि के ८८% पर भारी हैं ! ज़रा अपने गिरेबान में झांकिये . 

कुछ तो होगा उनमें कमाल , कुछ तो अल्लाह मियां  में खासियात हैं कि कब्रों के ऊपर चादरें चढाने,  केवल हिंदू ही जाते हैं , क्योंकि इस्लाम के अनुसार तो अल्लाह के सिवा ,  कब्रों की  पूजा करना , कुफ्र है . 

जब देवताओं , भगवानों कि ताकत खतम हो गयी तभी तो उन्हें कब्रों कि शरण में जाना पड़ता है . 

काश हमारे देवता भी कुछ भला कर पाते !

चुनावों में बड़ा मुद्दा है मुस्लिम आरक्षण। कांग्रेस और समाजवादी पार्टी अपने अपने तरीके से इसे लागू करने की बात कह रही हैं। बीजेपी और बीएसपी अपने अपने तरीके से इससे बच रही हैं। ठीक है कि सब पार्टियां वोट के चक्कर में हैं, लेकिन मुद्दा तो है। देश का बड़ा मुसलमान तबका पिछड़ा हैं। उसे आगे लाना है। 

आखिर ये तथाकथित धर्मनिरपेक्ष देश कब मुसलामानों कि सुनेगा !

2 टिप्‍पणियां:

Dr. shyam gupta ने कहा…

---आरक्षण ..मूलत: ही गलत व्यवस्था है.....सबको समान अधिकार होने चाहिये बस....सब अपनी अपनी मेहनत परिश्रम लगन से सब कुछ हासिल करें...

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बाकियों की संख्या कम है और वे वोट धार्मिक आधार पर नहीं करते.