समर्थक

जय श्री राम: क्या ‘कृश्चियनिटी ही कृष्ण-नीति है’ डॉ० पी०एन० ओक...

जय श्री राम: क्या ‘कृश्चियनिटी ही कृष्ण-नीति है’ डॉ० पी०एन० ओक...: क्या वाकई कोई जीसस थे ?    “क्या हास्यास्पद कथन है , ऐसी बात हमने कभी सुनी ही नहीं।”  यदि किसी नए सिद्धान्त को पूर्णतया समझना...


क्या कृश्चियनिटी ही कृष्ण-नीति हैडॉ० पी०एन० ओक क्या वाकई कोई जीसस थे ? “क्या हास्यास्पद कथन है, ऐसी बात हमने कभी सुनी ही नहीं।यदि किसी नए सिद्धान्त को पूर्णतया समझना हो तो उसे अपने मस्तिष्क को समस्त अवधारनाओं, अवरोधों, शंकाओं, पक्षपातों, पूर्व धारणाओं, अनुमानों एवं संभावनाओं से मुक्त करना होगा। इसके शीर्षक कृश्चियनिटी ही कृष्ण-नीति हैसे पाठकों में मिश्रित प्रीतिक्रिया उत्पन्न होने की संभावना है। उनमें से अधिकांश संभवतया छलित एवं भ्रमित अनुभव करते हुए आश्चर्य करेंगे की कृष्ण-नीति क्या हो सकती है और यह किस प्रकार कृश्चियनिटीकी और अग्रसर हुई होगी। क्राइस्ट कोई ऐतिहासिक व्यक्ति था ही नहीं, अतः कृश्चियनिटीवास्तव में प्राचीन हिन्दू, संस्कृत शब्द कृष्ण-नीति का प्रचलित विभेद है, अर्थात वह जीवन-दर्शन जिसे भगवान कृष्ण, जिसे अँग्रेजी में विभिन्न प्रकार से लिखा जाता है, ने अवतार धरण कर प्रचलित, प्रीतिपादित अथवा आचरित किया था। कृष्ण, जिसको क्राइस्ट उच्चरित किया जाता है, यह कोई यूरोपीय विलक्षणता नहीं है। यह भारत में आरंभ हुआ। उदाहरण के लिए - भारत के बांग प्रदेश में जिन व्यक्तियों का कृष्ण रखा जाता है उन्हें क्राइस्ट संबोधित किया जाता है। जीसस क्राइस्ट कोई ऐतिहासिक व्यक्ति नहीं हैं, क्योंकि कम से कम विगत दो सौ वर्षों से असंख्य जन यह संदेह करते रहें हैं कि क्राइस्ट की कथा औपन्यासिक है। नेपोलियन जैसे अनेक प्रमुख व्यक्ति समय समय पर स्पष्ट रूप से इस संदेह को उजागर करते रहे हैं। हाल ही में अनेक यूरोपियन भाषाओं में भी यूरोपियन विद्वानों द्वारा अपने परिपूर्ण शोध-प्रबन्धों में कृष्ण-कथा की असत्यता को प्रकाशित किया है। इस लेख में आप जानेगे कि1- क्राइस्ट-कथा का मूल कृष्ण है, 2- यह की बाइबल धार्मिक ग्रंथ से सर्वथा प्रथक एक कृष्ण-मत से भटके प्रकीर्ण, संहतिक्रत लाक्षणिक लेखा-जोखा है, 3- यह कि जीसस कि यह औपन्यासिक गाथा सैंट पॉल के जीवन के उपरांत ही प्रख्यात की गई, 4- यह की नए दिन का प्रारम्भ मध्यरात्रि के बाद मनाने की यूरोपिय परंपरा उनमें कृष्ण-पूजा के आधिक्य के कारण प्रचलित हुई। हिन्दू परंपरा में कृष्ण का जन्म दैत्यों के अत्याचार एवं अनाचार के अंधकारमय दिनो का स्मरण करता है। कृष्ण का जन्म शांति, संपन्नता और सुखमयता के नवयुग के नवप्रभात का अग्रदूत है। मध्यरात्रि से दिन के आरंभ की यूरोपियन पद्धति वास्तव में हिन्दू भावना का ही प्रस्तुतीकरण है जो अपनी ही प्रकार से यह सिद्ध करती है कि यूरोप हिन्दू-अंचल था। यूरोपियन विद्वानो की यह खोज कि जीसस क्राइस्ट कोई काल्पनिक चरित्र हैं, केवल अर्धसत्य है जो कि और अधिक भ्रम उत्पन्न करता है क्योंकि यह बताने में यह खोज असफल रही कि जीसस क्राइस्ट कथा क्यों और कैसे आरंभ हुई। सर्वाधिक आश्चर्य तो इस बात का है कि जीसस क्राइस्ट जैसा कोई चरित्र था ही नहीं तो फिर क्रिश्चयनिटी के विषय में यह सब संभ्रम क्यों फैला ? डॉ० पी०एन० ओक की पुस्तक कृश्चियनिटीही कृष्ण-नीति हैउसी अंतिम सूत्र को निर्दिष्ट करती हुई बताती है कि क्रिश्चयनिटी और कुछ नहीं अपितु हिंदुओं के कृष्ण मत का यूरोपियन तथा पश्चिम एशियाई विकृती है। अत: बाइबल भी धर्मग्रंथ किंचित भी नहीं अपितु जेरूशलम और कौरिन्थ स्थित कृष्ण मंदिरों के संचालकों के परस्पर मतभेद का कुछ संहतीकृत और कुछ लाक्षणिक कथामात्र एंव उसका परवर्ती संस्करण है। अलग हुए भाग ने कृष्ण मंदिर कि व्यवस्थता को हथियाने के सीमित से निमित्त के लिए एक विद्रोहात्मक आंदोलन आरंभ कर दिया। सौल अथवा पौल इसका नेता था। यह पौल ही है जिसका वृत्त-चित्रण बाइबल में किया गया है। बारह देवदूत यहूदी समुदाय के वे बारह वर्ग हैं जिनकी सहायता की पॉल ने इच्छा की थी। इसलिए जीसस के छदमवेश में पौल ही बाइबल का मुख्य पात्र है। यथातथा उनकी बड़ी-बड़ी अपेक्षाओं से कहीं परे पौल, पैटर, स्टीफन आदि द्वारा संचालित आंदोलन एक प्रवाह में परिवर्तित होकर असहाय आंदोलनकर्ताओं को कृष्ण-मत से दूर ले जाता हुआ और उनको किसी अज्ञात तट पर, जिसे वे अब भी भयाक्रांत से कृष्ण नीति ही मानते रहे, जो अब क्रिश्चयनिटी कही जाती है। बाइबल उस संघर्ष का लाक्षणिक लेखा-जोखा है जिसे आंदोलनकर्ताओं ने साहस जुटाकर प्रपट किया, जो अब यहूदी नागरिकों तथा रोमन अधिकारियों को खतरा बन गया है। यहूदियों को यह भय था कि यदि ये सब क्रिश्चयन बन गए तो यह संस्कृति खत्म हो जाएगी। दूसरी ओर रोमन अधिकारियों को यह भय होने लगा कि कृष्ण मंदिर विवाद इस परिमाण में बड़ गया है कि वह स्वयं प्रांतीय प्रशासन के विरुद्ध खुले विढ्रोह के रूप में भयाभय सिद्ध हो रहा है। उनका भय निरधार नहीं था, जैसा कि कालांतर में इसने जुड़ाइज्म को अंधकार में विलीन कर क्रिश्चिनीति को स्थापित किया और रोम की क्रिश्चिन-पूर्व की संस्कृति को तहस-नहस कर भूमिसात् कर दिया । चार शताब्दों की इस अराजकता की अवधि में विद्रोहियों ने, जैसा कि यहूदियों ने रोमन अधिकारियों को सूचित किया, समय-समय पर उन्हे उनके अपराधो के लिए दंडित किया । यहूदी रोमन अधिकारियों को सूचित करते थे, क्योंकि वे जीसस के मिथक को उन्मत्तता और हिंसा द्वारा फैलाकर उनकी शांति को भंग कर रहे थे । इस दिशा में रोमन अधिकारी उनके विरुद्ध कार्य करके उन नए दंगो को रोककर अथवा शांत कर उन्हें उपकृत कर रहे थे । यह आंदोलन स्पष्टतया, झड़पो, मुठभेड़ों, हत्याओ, सामूहिक अवरोधो, निष्कासनों, कर न देना जैसा कि मंदिर के भीतर धन-विनिमय कारों के खातो से विदित होता था, बड़े जोरों से फैल गया । और तब यह प्रश्न उत्पन्न हो गया कि जो कर देय है क्या उसे सीजर के पास जमा कर दिया जाय ? उस विद्रोह को समाप्त करने के प्रयास में विद्रोहियों को इतने पत्थर मारे गए अथबा उन्हे फांसी पर लटका दिया गया। यही वह संघर्ष हैं जो बाइबल में अंकित और वर्णित है । यही कारण है कि पोल तथा अन्य लोग, जो उस आंदोलन मे सीधे वा किसी अन्य प्रकार से सम्मिलित थे, बाइबल में उनका पत्र-व्यवहार भी समाहित हैं। काल्पनिक जीसस का अभिव्यक्तिकरण विद्रोहियों में समान्यतया और पोल मे विशेषतया किया गया हैं । कांटो का मुकुट और जनसमुह की अवज्ञा, अवमानना, परिश्रम और अंत मे फाँसी पर लटकाना यही आंदोलनकर्ताओं कि कथा का सार है। जीसस का अवतार मुख्य रूप से उन यहूदियों के अनुरूप ही बैठता है जो अंदोलनकर्ताओं के विषय में रोमन प्रशासन को सूचित करते रहे हैं जबकि पुनर्जीवित होना विद्रोहियों के शक्तिशाली गुट के रूप में होने का प्रतीक है। बाइबल का संहतीकृत और संघर्ष के लक्षणिक इतिहास के रूप में अध्ययन किया जाय तो तभी उसमें कुछ सार दिखाई देता है। क्योंकि बाइबल की ऐसी वास्तविकता अज्ञात और अविदित रहती रही थी इसलिए विद्वान और बाइबल के विद्वान इसके वर्णन और धर्म से अनुकूलता के संगतीकरण मे कोई संयोग पाने में अब तक बड़ी कठिनाई का अनुभव करते रहे थे। उनके लिए बाइबल अब तक एक बेमल तथा परस्पर विरोधी अनियमितता एवं आपाधापी में गूँथे गए तत्वों का पिंड सा है। अब तक बाइबल का प्रत्येक पाठक यही आश्चर्य करता रहा कि वास्तव में बाइबल का अभिप्राय क्या अभिव्यक्त करना है? यह ऐसी दिखाई देती थी मानो इसके बेमेल संकलन में बाइबल धर्म चर्चा और वर्णन, जीवनवृत और प्रार्थना, विनती और प्रवचन और क्रोध और परित्याग, ये एसबी परस्पर अस्त-व्यस्तता से मिश्रित हैं। इस रहस्य को अब हमने सर्वप्रथम उदद्घाटित किया है। विभ्रम, कतरना, असंगतता, गुप्तता तथा रूपकरता संघर्ष के प्रकार और इसके अनपेक्षित, निरुउद्देश्य और अवांछितता के कारण उत्पन्न हुए है। जिस प्रकार ब्रिटीशर्स ने मसालों का व्यापार करते-करते ही भारत को अपने अधीन कर लिया, ठीक उसी प्रकार जिन्होंने किंही एक-दो कृष्ण मंदिरों का अधिकार पा लिया उन्होने बड़े आश्चर्य एंव संभ्रम व लज्जा से पाया कि उनका प्रबल घोष सम्पूर्ण समसामयिक सांप्रदायिक ढांचा उनके सिरों पर ही टूट रहा है। इसलिए परिस्थितीओं से विवश होकर उनको अपने संघर्ष का संहतीकृत, भ्रामक, अस्तव्यस्त, आलेख ही अपना धर्मग्रंथ स्वीकार करना पड़ा। इस प्रकार मानवता का भौत बड़ा भाग अनंत: चाटुकारितापूर्ण, अविश्वसनीय पाठ्य सामाग्री को मुक्ति एंव धर्म स्वीकार करना जनसामान्य की बुद्धिविहीनता का प्रतिबिंब है। जनसामान्यका यह स्वभाव होता है भीड़ का अनुसरण करना, यह जाने बिना कि इसका गंतव्य और उद्देश्य क्या है। बाइबल की वास्तविकता को मेरी खोज से न केवल क्राइष्ट्रोलॉजी के अध्ययन एवं बाइबल और तत्संबंधी धर्म में ही अत्यधिक गड़बड़ उत्पन्न करेगी अपितु समसामयिक संसार के सम्पूर्ण धार्मिक प्रकार को गड़बड़ा देगी । कथमपि यह मुझ पर आ पड़ा है कि संसार की अनेक मुख्य ऐतिहासिक एवं धार्मिक अवधारणओ का मैं पर्दाफास करूँ । पंद्रह वर्ष पूर्व मैंने अपनी अदभूत खोज की घोषणा की थी कि भारत अथवा अन्य किसी भी देश का कोई भी ऐतिहासिक भवन; यथा लालकिला और ताजमहल, समरकन्द का तामरलेन का तथाकथित मकबरा, किसी भी विदेशी आक्रमणकर्ता का, जैसा कि समान्यतया उसे उसके नाम से बताया जाता है, उसका नहीं है । जैसा कि समान्यतया उसे उसके नाम से बताया जाता है, उसका नहीं है । प्रत्येक तथाकथित ऐतिहासिक मस्जिद या मकबरा, भारत में हो अथवा विदेश में, वह अधिग्रहित हिन्दू सौंध ही है । परिणामतः इण्डो-अरब-शिल्प-कला का सिद्धान्त बहुत बड़ा मिथक हैं । इसके परिणामस्वरूप समस्त संसार में विध्यमान ऐतिहासिक, पुरातात्विक एवं शिल्प-विध्या संबंधी अध्ययन मे निहित मूल त्रुटियाँ उजागर नहीं हो पाई । इसीलिए आज संसार-भर के विद्वान बड़े जोर-शोर से काल्पनिक इस्लामी भवनो के संबंध में अपने पूर्व-कृत्यों का पुनराबलोकन कर रहे हैं । जीसस और बाइबल के संबंध में मेरी खोज, जो की उसी प्रकार दूरगामी और विचलित करने वाली , कुरान के भी आलोचनात्मक अध्ययन के लिए विवश करेगी । क्योंकि उसके विषय में भी यह कहना कि वह आसमान से नाजलहुआ था, जीसस को सर्वथा ऐतिहासिक पुरुष और बाइबल को धार्मिक ग्रंथ मानने के समान ही है । क्योंकि कुरान में जीसस तथा कुछ और आगे बड़कर बाइबल ककी भांति प्रकाश दिखाने की भविष्यवाणी की गई हैं, वह एक प्रकार से विश्रामक दौड़-सी हैं । किन्तु क्योंकि अब यह स्पष्ट हो चुका कि कोई ईसा नहीं है तो फिर कुरान कहाँ रह सकती है ? यदि कुरान के विषय में मान लिया जाय कि स्वर्ग में स्थित फलक का प्रतिलेख हैं जो अरेबिया मे प्रसारित किया गया है तो बताइए त्रुटि कहाँ हैं ? क्या स्वर्ग का लेखा त्रुटिपूर्ण है अथवा उसके अरब मे उतरने पर उसमें गड़बड़ी की गई हैं ? विद्वान और जनसमान्य समान रुप से इसे जानने को उत्सुक होंगे । क्राइस्ट ने ध्वन्यात्मक रूप में संत्रास किया । जब उसको उस प्रकार से उच्चारण करे तो हम उसे हिन्दू, संस्कृत शब्द कृष्ण से मिलता-जुलता पाएंगे ।नीतिप्रत्यय भी संस्कृत का है । इसलिए क्रिश्चिनीतिशब्द वास्तव में कृष्ण-नीति को अभिव्यक्त करता है अर्थात भगवान कृष्ण द्वारा प्रतिपादित अथवा आचरित जीवन-दर्शन । अंग्रेजी में क्राइस्ट को अनेक प्रकार से लिखा जाता है जैसे कि देवनागरी में कृष्ण को। परंतु क्योंकि अंग्रेजी में क्रिश्चिनीतिएक ही मानक रूप में समस्त विश्व में लिखी जाती है, हमने इस पुस्तक में कृष्ण और कृष्ण-नीति पर समकक्ष लेखन पर स्थित रहकर इस बात पर बल दिया है कि उसके अन्य प्रकार केवल ध्वनात्मक विभेद हैं। रोमन वर्णमाला की अपूर्णता तथा विभिन्न भाषाओं द्वारा इसके ग्रहण ने लेखन में अत्यधिक विभ्रम उत्पन्न कर दिया हैं, संस्कृत शब्द ईशअलियास ईशु अंग्रेजी ग्रीक तथा लैटिन भाषा में विभिन्न प्रकार से किहा जाता है। ईशायुस, इयासियुस, इसेयुस, इसेयुस , ईसुस और जेसुस ये कुछ इसके अनेक नामों में से है। इसी प्रकार सिलास, सिलुस और सिल्वानुस, स्टेफेन तथा स्टीफन आड़ ध्वनि-विभेद त्रुटिपूर्ण रोमन लिपि के कुछ लक्षण हैं: यदि इसलिए पाठक इस पुस्तक में कोई एक नाम विभिन्न स्थानो पर अनेक प्रकार से लिखा गया हैं तो निराशा में लेखक स्वयं सहभागी हैं । एक बार फिर अपने खोजपूर्ण कार्य की ओर आते हुए मै कहना चाहता हूँ कि सर्वथा अप्रत्याशित, किंचित् नहीं, अत्यंत ही महत्वपूर्ण, अत्यंत भयावह और निराशाजनक परिणाम इस खोजपूर्ण कृति के होंगे, खोज जो पश्चात्य विद्वानो जिन्होने शैक्षिक क्षेत्रो में दो शताब्दो तक राज्य किया हैं, उन्होने भाषा-विज्ञान संबंधी भयंकर भूल की है जो कि उनके शब्दकोशों एवं विश्वकोशों तथा अन्य लेखों को नष्ट कर देगा । इसको प्रदर्शित करने के लिए इस पुस्तक के प्रष्ठ ११७ पर हमारे द्वारा उद्ध्र्त उद्दरण का उल्लेख करेंगे । वहाँ ग्रीक शब्द हिरोसोलिमाको इस प्रकार कहा गया है जिसका अभिप्राय होता है होली सलम अर्थात होली जेरूसलम । यह भयंकर भूल हैं । हिरोसोलीमा संस्कृत शब्द हरि-ईश-आलयम् का भ्रष्ट ग्रीक रूप है जिसका अभिप्राय है भगवान हरि अथवा भगवान कृष्ण का आसान, स्थान अथवा नगर । नगर के पवित्र होने की भावना केवल इसके भगवान हरि के निवास होने के कारण अनुमानित है । इसी प्रकार जब एनसाइक्लोपीडिया जुडेशिय हिबू का मूल हीदिव्य संज्ञा का संक्षिप्त रुप, बताता है तो वह यह बताने मे असमर्थ रहता है कि वह दिव्य संज्ञा क्या थी । वह दिव्य संज्ञा है हरिअलियास कृष्ण । इसलिए यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि यहाँ तक कि उनके अपने विशिष्ट क्षेत्र में भी पश्चात्य विद्वान वास्तविकता से कितनी दूर निकल गए है, अपने अर्धपक्व और भली प्रकार न समझी गई खोजो मे लगे रहने की अपेक्षा पाश्चात्य विद्वान सदा-सदा के लिए यह स्वीकार कर ले कि संस्कृत भाषा और हिन्दू परम्पराएँ मुख्य विश्व संस्कृत के रूप में मानव-सभ्यता की जड़ मे समाहित है, तो उपयुक्त होगा ।

राम मंदिर के बाद रामसेतु -- हिन्दू आस्था पर कांग्रेस का इस्लामिक प्रहार (ram setu)



कांग्रेस  सरकार  अब नीचता और हिन्दू विरोध की  पराकाष्ठा  करते हुए  रामसेतु को तोड़ने के कार्य में युद्ध स्तर पर लग गयी है ..शायद चुनावों से पहले मज़बूरी में अफजल को दी गयी  फांसी का असर कम करने के लिए और मुसलमान वोटो की लालसा में रामसेतु को तोड़ने का कार्यक्रम बनाया जा रहा है ..इसी  कड़ी के अंतर्गत सरकार ने आरके पचौरी समिति की सिफारिशों को नकार दिया है।ये वही सरकार है जिसके मंत्री लाख करोड़ रूपये का एक घोटाला करते हैं और अल्पसंख्यक कल्याण के नाम पर लाखो करोड़ जेहादियों को असलहा और बम खरीदने के लिए बाट देती है॥ कांग्रेस सरकार ने सुप्रीम कोर्ट मे हलफनामा दे कर तर्क दिया है की

भारत की सरकार (कांग्रेस) किसी राम के अस्तित्व को नहीं मानती है अतः रामसेतु की बात निरर्थक है ॥जब कांग्रेस सरकार राम को नहीं मानती तो रामसेतु को कैसे मानेगी??

सरकार का दूसरा तर्क है की लगभग 800 करोड रुपए वो खर्च कर चुकी है अतः इस परियोजना को बंद नहीं किया जा सकता॥

पहले तर्क के बारे मे कांग्रेस के हलफनामे के मुताबिक केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पचौरी के नेतृत्व वाली समिति की रिपोर्ट पर विचार किया और उसकी सिफरिशों को नामंजूर कर दिया। सरकार ने सुनवाई के दौरान रामसेतु को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करने पर कोई कदम उठाने से इंकार करते हुए सुप्रीम कोर्ट से इस पर फैसला करने को कहा था। सरकार ने कहा कि 2008 में दायर अपने पहले हलफनामे पर कायम है जिसे राजनीतिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने मंजूरी दी थी। इससे पहले अप्रैल में केन्द्र सरकार की ओर से दलील दी गई थी कि वह रामसेतु को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करने में असमर्थ है।सरकार आतंकवादी अफजल के चश्मे और घड़ी को जेहादियों को देने की बात कर सकती है जिसे वो देशद्रोही संग्रहालय बनाये मगर उसे 100 करोड हिंदुस्थानियों की आस्था के प्रतीक रामसेतु को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करने में दौरे आने लगते हैं ॥अब हिंदुओं को सोचना होगा की क्या सचमुच द्रोही कांग्रेसियों को अपने घर मे जगह देनी चाहिए जो "राम" जैसे पूज्य के अस्तित्व पर प्रश्न उठाते हैं॥ क्या ये संभव है कांग्रेस का कोई भी देशद्रोही धर्मद्रोही सदस्य “दिग्विजय सिंह के इष्टदेव मुहम्मद साहब”  या अपनी “इटालियन मम्मी” के आस्था के प्रतीक "जीसस" के अस्तित्व पर प्रश्न उठाए ??
अंग्रेज़ो ने सर्वप्रथम हिंदुस्तान पर राज करने के लिए हिंदुस्थानी जनमानस के स्वाभिमान पर चोट की और उसे खतम किया जब व्यक्ति का स्वाभिमान मर जाए तो उसे एक जानवर जैसे रखकर ,पालकर ,प्रताड़ित करके जैसे चाहे वैसे कार्य लिया जा सकता है। इसी क्रम मे अंग्रेज़ो ने बेगार और सार्वजनिक कोड़े लगाने का कुकृत्य शुरू किया।  यही काम हिंदुओं के साथ कांग्रेस कर रही है हिंदुओं की आस्था का हर वो प्रतीक जो जरा भी स्वाभिमान उनमे पैदा करता हो उसे नष्ट करो ॥ अमरनाथ यात्रा का क्या हाल हुआ हम सब देख रहे हैं॥ रामलला रहेंगे तम्बू और बारिश मे और रामसेतु तोड़ा जाएगा। अगर कांग्रेस सरकार मे सचमुच इतना पौरुष बचा है तो क्यूँ नहीं जिस "राम" को काल्पनिक कहते हैं उसकी मूर्तियाँ अयोध्या से हटवा देते हैंहैदराबाद मे मंदिरों मे घंटिया बजाए जाने पर प्रतिबंध भी हिन्दू स्वाभिमान को तोड़ने की कांग्रेस की एक कुटिल चाल है ॥हालांकि बिना सेतु को तोड़े भी वैकल्पिक तरीके से सेतु बनाया जा सकता है मगर कांग्रेस सेतु तोड़ने पर अडिग है क्यूकी सेतु के साथ साथ टूटेगा हिंदुओं का स्वाभिमान ,सेतु के टूटने के साथ कांग्रेस प्रहार करेगी लाखो वर्ष से हिंदुस्थान मे राम को भगवान मानने की आस्था परऔर सेतु के साथ टूटेगा साढ़े सोलह लाख वर्षों से भगवान राम की एक अमर धरोहर जो उस काल मे हमारी सिविल इंजीनियरिंग का अदभूत नमूना है । 

अब यदि कांग्रेस सरकार के दूसरे तर्क 850 करोड रुपए को ले तो क्या लाखों करोडो का घोटाला करने वाले कांग्रेसियों को लाखो साल पुराने हिन्दू स्मृति चिन्ह के लिए टैक्स के 850 करोड भी नहीं मिल रहे हैं और वो पैसे भी हमारे टैक्स के हैं ,हम हिंदुओं की मेहनत के ॥अब यदि कांग्रेस सरकार के दूसरे तर्क 850 करोड रुपए को ले तो क्या लाखों करोडो का घोटाला करने वाले कांग्रेसियों को लाखो साल पुराने हिन्दू स्मृति चिन्ह के लिए टैक्स के 850 करोड भी नहीं मिल रहे हैं और वो पैसे भी हमारे टैक्स के हैं ,हम हिंदुओं की मेहनत के ॥ अगर पैसे की बात है तो कल से दिग्विजय और राहुल गांधी कटोरा ले के खड़े हो जाएँ तो हिंदुस्तान के 100 करोड हिन्दू राम सेतु के लिए 100 रुपए भी देंगे तो रामसेतु का आर्थिक भार सरकार से खतम हो जाएगा और हिन्दू धर्म विरोधी कांग्रेसियों के लिए बख्सीश भी बच जाएगी.

सभी हिन्दू भाइयों को इस विषय पर गंभीरता पूर्वक सोचना होगा की आखिर कांग्रेस की ये साजिश क्या है 
रोमकन्या सोनिया और कांग्रेसियों ने वेटिकन सीटी के आदेश मुस्लिम आतंकवाद पर आंखे मूँद ली  है इससे मुसलमान हिंदुओं को कमजोर करेंगे और अंततः पूर्वोत्तर की तरह हिंदुस्थान को एक ईसाई बहुल राज्य बनाया जाएगा॥
इसी क्रम मे कश्मीर 
,उत्तरप्रदेश,हैदराबाद,बिहार,पश्चिम बंगालऔर आसाम मे हुए हिंदुओं के नरसंहार एवं हिन्दू माताओं बहनो का शील भंग करना आता है । मुसलमानो को आर्थिक एवं राजनीतिक संरक्षण दे कर हिन्दू और हिन्दू अस्मिता को नष्ट करना कांग्रेस सरकार के प्रायोजित कार्यक्रम का प्रथम चरण है॥ अगले चरण मे धीरे धीरे ईसाई मशीनरियों द्वारा भारत का ईसाईकरण. दुखद ये है की कुछ हिन्दू धर्म के द्रोही सेकुलर लोग कांग्रेस के साथ इस साजिश मे शामिल हो गए हैं और कुछ हिन्दू कांग्रेस की इस साजिश को समझ नहीं पा  रहे हैं॥
अब यदि रामसेतु का आर्थिक पक्ष देखें तो ये कांग्रेस की दलाली खाने की एक और चाल है इसकी शुरुआत तब होती हैजब पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति जोर्ज बुश भारत आये थे और एक सिविल न्यूक्लीयर डील पर हस्ताक्षर किये गए जिसके अनुसार अमरीका भारत को युरेनियम-235 देने की बात कही उस समय पूरी मीडिया ने मनमोहन सिंह की तारीफों  के पुल बांधे और इस डील को भारत के लिए बड़ी उपलब्धि बतायापर पीछे की कहानी छुपा ली गयी l  आप ही बताइए जो अमरीका 1998 के परमाणु परीक्षणों के बाद भारत पर कड़े प्रतिबंध लगाता है वो भारत पर इतना उदार कैसे हो गया की सबसे कीमती रेडियोएक्टिव पदार्थ  जिससे परमाणु हथियार बनाये जा सकते हैं,एकाएक भारत को बेचने के लिए तैयार हो गया दरअसल इसके पीछे की कहानी यह है की इस युरेनियम-235 के बदले मनमोहन सिंह ने यह पूरा थोरियम भण्डार अमरीका को बेच दिया जिसका मूल्य अमरीका द्वारा दिए गए  युरेनियम से लाखो गुना ज्यादा है आपको याद होगा की इस डील के लिए मनमोहन सिंह ने UPA-1 सरकार को दांव पर लगा दिया थाफिर संसद में वोटिंग के समय सांसदों को खरीद कर अपनी सरकार बचायी थी यह उसी कड़ी का एक हिस्सा है l  थोरियम का भण्डार भारत में उसी जगह पर है जिसे हम रामसेतु’ कहते हैंयह रामसेतु भगवान राम ने लाखों वर्ष पूर्व बनाया थाक्योंकि यह मामला हिन्दुओं की धार्मिक आस्था से जुड़ा था इसलिए मनमोहन सरकार ने इसे तोड़ने के बड़े बहाने  बनाये। जिसमें से एक बहाना यह था की रामसेतु तोड़ने से भारत की समय और धन की बचत होगीजबकि यह नहीं बताया गया की इससे भारत को लाखों करोड़ की चपत लगेगी क्योंकि उसमें मनमोहन सिंहकांग्रेस और उसके सहयोगी पार्टी डीएमके का  निजी स्वार्थ था l  भारत अमरीका के बीच डील ये हुई थी की रामसेतु तोड़कर उसमें से थोरियम निकालकर अमरीका भिजवाना था तथा जिस कंपनी को यह थोरियम निकालने का ठेका दिया जाना था वो डीएमके के सदस्य टी आर बालू की थी। अभी यह मामला सुप्रीमकोर्ट में लंबित है l  इस डील को अंजाम देने के लिए मनमोहन (कांग्रेस) सरकार भगवान राम का अस्तित्व नकारने का पूरा प्रयास कर रही हैओने शपथपत्रों में रामायण को काल्पनिक और भगवान राम को मात्र एक पात्र’ बताती है और सरकार की कोशिश है की ये जल्द से  जल्द टूट जायेजबकि अमरीकी अन्तरिक्ष एजेंसी नासा ने रामसेतु की पुष्टि अपनी रिपोर्ट में की है l  अतः यह जान लीजिये की अमरीका कोई मूर्ख नहीं है जिसे एकाएक भारत को समृद्ध बनाने की धुन सवार हो गयी हैयदि अमरीका 10 रुपये की चीज़ किसी को देगा तो  उससे 100 रुपये का फायदा लेगाऔर इस काम को करने के लिए उन्होंने अपना दलाल भारत में बिठाया हुआ है जिसका नाम है "मनमोहन सिंह" l  अब केवल कैग रिपोर्ट का इंतज़ार हैजो कुछ दिनों में इस घोटाले की पुष्टि कर  देगी…. यदि 1.86 लाख करोड़ का कोयला घोटाला महाघोटाला है तो 48 लाख करोड़ के घोटाले को क्या कहेंगे आप ही बताइए।
हम सभी हिन्दू भाइयों को इस बात को समझना होगा की यदि आज राम सेतु तोड़ा गया तो ये सिर्फ एक ऐतिहासिक संरचना को तोड़ना नहीं होगा बल्कि हिंदुओं के धार्मिक आस्था पर चोट होगी॥ कहते हैं की इतिहास स्वयं को दोहराता है रामसेतु को तोड़ना ठीक उसी प्रकार है जैसे बाबर ने रामलला के मंदिर को तोड़ा था अंतर सिर्फ इतना ही है की इस बार बाबर के रूप मे “सोनिया’,”राहुल”,”दिग्विजय” और “चिदम्बरम” जैसे कांग्रेसियों की फौज है और राम मंदिर की जगह है रामसेतु......

"आशुतोष नाथ तिवारी"

स्रोत: APJकलाम साहब का इंटरव्यू,कांग्रेस का हलफनामा,अंतर्जाल सूचनाएँ ,गूगल ब्लाग्स

being hindu 









हल्ला बोल मंच का संपादक आशुतोष नाथ तिवारी को बनाया जा रहा है। ताकि वे अपनी सक्रियता से मंच को गति प्रदान कर सके। राष्ट्रवाद व धर्म के प्रति उनकी समर्पण भावना तथा उनकी उर्जा को देखते हुए यह जिम्मेदारी उन्हें दी जा रही है। किसी भी रचना के सम्बन्ध में उनका निर्णय सर्वमान्य होगा।

                                                                                                   जय श्री राम ....... हल्ला बोल।

BEING HINDU T shirts

कैप्शन जोड़ें
 BEING HINDU
सूचना : सभी मित्रों की जानकारी के लिए। हमने विभिन्न रंगों में BEING HINDU T-SHIRTS और BADGES नए डिजाईन में ले कर आये हैं .ज्यादा जानकारी के लिए आप http://www.being-hindu.com/ पर जा सकते हैं। इस कार्यक्रम का हमारा स्पष्ट उद्देश्य है की "हिन्दू" शब्द हमारे सामान्य जीवन में परिलक्षित हो और सामान्य व्यक्ति की जिज्ञासा हमारी धार्मिक आस्थाओं में बढे।
जिस किसी भी बंधू को ये टी शर्ट चाहिए वो 09718847528 पर संपर्क कर सकता है या हमे hindu.being@gmail.com पर ईमेल लिख सकता है .
यदि कोई बंधू इन उत्पादों को अपने क्षेत्र में प्रसारित करना चाहते हैं तो वो कृपया http://www.being-hindu.com/  पर देखे या ज्यादा जानकारी के लिए  09718847528 पर संपर्क करें।
जय श्री राम जय हिन्दू राष्ट्र ...